Rajasthan Government Crisis Live : गहलोत का पलड़ा भारी, सचिन बर्खास्त

0

राजस्थान की राजनीति (Rajasthan Government Crisis 2020 Live) में मची उथल पुथल के बीच खबर है कि सचिन पायलट अपने साथी विधायकों के साथ बीजेपी में शामिल हो सकते हैं, अगर ऐसा हुआ तो मप्र की तरह यहाँ भी कांग्रेस सरकार गिर सकती है. अब तक सियासी उठापटक में जो हुआ उसे देखे बिन्दुवार –

विधायक की मौत के बाद बीजेपी ने किया बंगाल बंद का आह्वान

jaipur News: सचिन पायलट के समर्थक विधायक ...

 LIVE एक्शन (Rajasthan Government Crisis 2020 Live) –

निलंबन के बाद सचिन का ट्वीट सत्य को परेशान किया जा सकता है पराजित नहीं

प्रोफाइल से कांग्रेस शब्द हटाया सचिन पायलट ने

राजस्थान के सियासी संकट में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का पलड़ा भारी .

कांग्रेस विधायक दल की बैठक में विधायकों ने अशोक गहलोत को अपना नेता माना .

उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की.

राजस्थान मंत्रिमंडल से सचिन पायलट और उनके दो करीबी मंत्रियों को बर्खास्त किया जा रहा है.

सचिन पायलट को मंत्रिमंडल से बर्खास्त किए जाने के साथ  कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के पद से भी हटा दिया गया .

उनकी जगह पर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है.

सचिन पायलट के अलावा विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को मंत्रिमंडल से बर्खास्त किया गया है.

MP:शिवराज ने मंत्रियों को विभाग बांटे, इन विभागों पर सिंधिया समर्थकों का कब्जा

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने सचिन पायलट को प्रदेश अध्यक्ष के साथ ही मंत्री पद से हटाए जाने का ऐलान किया.

सुरजेवाल ने कहा कि पायलट के साथ ही विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को भी मंत्री पद से हटाया जा रहा है.

सुरजे वाला ने कहा कि कांग्रेस विधायक पायलट के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे थे.

कांग्रेस विधायक दल की बैठक शुरू .

बैठक में विधायकों ने अशोक गहलोत को ही अपना नेता करार दिया है.

राजस्थान में सचिन पायलट का गुट अपनी बात पर अड़ गया है. पायलट गुट के विधायकों ने कहा कि जब तक मान सम्मान की गारंटी नहीं होगी, तब तक वापसी नहीं होगी

 पायलट गुट ने आलाकमान के पास संदेश भिजवा दिया है कि अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री के पद से हटाने पर ही समझौता हो पाएगा.

पायलट का फिलहाल जयपुर आने का कोई कार्यक्रम नहीं है और बीजेपी में जाने का भी कोई कार्यक्रम नहीं है.

  • अशोक गहलोत का शक्ति प्रदर्शन, सौ से ज्यादा विधायक जुटाए , पायलट की मुश्किलें बढ़ी

राजस्थान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने 25 विधायक उनके साथ होने का दावा किया.  सचिन पायलट ने साफ कहा कि वो जयपुर में बैठक में हिस्सा नहीं लेंगे.

गहलोत गुट अपने साथ  102 विधायक होने का दावा कर रहा है.

जयपुर में मुख्यमंत्री आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक होगी

राज हथियाओं नीति के निशाने पर अब राजस्थान

सीएम अशोक गहलोत ने कहा है कि जो विधायक बैठक में नहीं आएगा उस पर कार्रवाई की जाएगी,  सचिन पायलट ने बैठक में आने से इनकार कर दिया है.

वही रणदिव सुरजेवाला ने कहा,कांग्रेस की सरकार पूरी तरह स्थिर है, कांग्रेस के पास पूर्ण बहुमत है,बीजेपी चाहे कितनी भी षड्यंत्र करे लेकिन हमारी सरकार अपना 5 साल का कार्यकाल पूरा करेगी. सचिन पायलट समेत कांग्रेस के सभी विधायकों के लिए हमारे दरवाजे खुले थे और खुले रहेंगे. वैचारिक मतभेद की वजह से अपनी ही चुनी हुई सरकार को कमजोर करना या बीजेपी को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित है.

व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा वाजिब हो सकती है लेकिन अपनी बात को पार्टी फोरम पर रखा जाए. अगर किसी को भी किसी पद या प्रोफाइल से समस्या है, तो उन्हें पार्टी फोरम में आकर अपनी आवाज उठानी चाहिए. हम मिलकर इसका समाधान करेंगे और अपनी सरकार को राज्य में मजबूत बनाएंगे

A Quarrel Between Chief Minister Ashok Gehlot And Deputy Chief ...

इस बीच छत्तीसगढ़ कांग्रेस के प्रभारी पीएल पुनिया ने कहा- सचिन पायलट अब बीजेपी में हैं. .

कांग्रेस के संगठन प्रभारी महासचिव केसी वेणुगोपाल और कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने सचिन पायलट से बातचीत की है.

कांग्रेस विधायक राजेंद्र गुढ़ा ने एक बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें बीजेपी की तरफ से पैसों का ऑफर दिया गया था.

कांग्रेस विधायक गिरिराज सिंह मलिंगा सीएम हाउस के बाहर मीडिया से बातचीत में फिर से अपने विधायकों पर नाराज दिखे .

आज शाम गिर सकती हैं राजस्थान में ...

सचिन पायलट को बीजेपी में बताने वाले बयान से पीएल पुनिया अब मुकर गए हैं. उन्होंने ट्वीट करके कहा कि मैं सिंधिया के बार में बोल रहा था लेकिन गलती से सचिन पायलट निकल गया. सचिन पायलट राजस्थान के सीएम पद के लिए सही उम्मीदवार थे, लेकिन अशोक गहलोत ने कार्यभार संभाल लिया, तब से पार्टी में संघर्ष शुरू हो गया. आज जो हो रहा है, वह उसी संघर्ष का परिणाम है.

Share.