4 बेरोजगारों ने ट्रेन के आगे लगाई छलांग

0

राजनीति के आला अधिकारियों द्वारा विधानसभा चुनाव के प्रचार के दौरान ऐसे कई वादे किए जा रहे हैं कि उनकी सरकार बनने से देश की गरीबी, बेरोजगारी जैसी कई समस्याएं दूर हो गई, लेकिन हकीकत किसी से छिपी नहीं है| आज देश की जो हालत है, उससे तो बच्चा-बच्चा वाकिफ हैं| देश में कई समस्याएं ऐसी हैं, जो तेज़ी से बढ़ती जा रही हैं, उन्हीं में से एक है बेरोज़गारी| एक ऐसी समस्या, जो चार युवकों के लिए काल का सबब बन गई|

दरअसल, राजस्थान में चार युवकों ने बेरोजगारी से तंग आकर ट्रेन के आगे छलांग लगा दी| इससे राजस्थान में बेरोजगारी की भयावह स्थिति का पता चल रहा है| जानकारी के अनुसार, अलवर शहर में बुधवार को 6 दोस्तों ने नौकरी नहीं मिलने से परेशान होकर जान देने की योजना बनाई| सभी कई दिनों से नौकरी की तलाश में भटक रहे थे| इसके बाद चार युवक एफसीआई गोदाम के पास ट्रेन के सामने कूद गए| हादसे में तीन युवकों की जान चली गई| वहीं एक गंभीर रूप से घायल हो गया| वहीं अन्य युवकों ने आत्महत्या का फैसला बदल दिया|

रानी के बालो को कलां निवासी 24 वर्षीय मनोज मीणा, बुचीपुरी निवासी 22 वर्षीय सत्यनारायण मीणा, बरेला निवासी 17 वर्षीय राज मीणा,  टोडाभीम के खेड़ी निवासी 22 वर्षीय अभिषेक मीणा सूबे के अलवर में पढ़ाई कर रहे थे, जिनमें से तीन दोस्त की मौत हो गई| युवकों ने बताया कि उनकी नौकरी नहीं लग रही थी और ऐसे में जीवन मुश्किल हो जाता है| ऐसे में मरने के अलावा दूसरा कोई रास्ता नहीं सूझा| आत्महत्या करने वाले युवकों में से एक सत्यनारायण मीणा ने घटना से कुछ घंटे पहले अपने फेसबुक अकाउंट पर हत्या का वीडियो पोस्ट किया था|

MP : बेरोजगारी पर सरकार के खिलाफ योग गुरु

दिखा बेरोजगारी का असर

विदेश में नौकरी का सपना दिखाकर ऐसे होती थी ठगी

Share.