राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव को जमानत, सभी आरोपियों को भी राहत

0

आईआरसीटीसी घोटाला मामले में पटियाला कोर्ट में चल रहे केस में बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को आज बड़ी राहत मिली है।  पटियाला हाउस अदालत ने राष्ट्रीय जनता दल के मुखिया लालू यादव, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बेटे तेजस्वी यादव सहित अन्य आरोपियों को 31 अगस्त को अदालत में पेश होने के लिए समन भेजा था। लालू यादव चारा घोटाले में पहले ही जेल में सज़ा काट रहे हैं।

उनकी पत्नी और बेटे तेजस्वी शुक्रवार सुबह कोर्ट में पेश हुए, जहां उन्हें जमानत मिल गई। कोर्ट ने दोनों को 1 लाख रुपए के बांड पर जमानत दी है। राबड़ी देवी और तेजस्वी सुनवाई के सिलसिले में दिल्ली आये हुए है। उधर लालू यादव ने रांची कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। लेकिन खराब स्वास्थ के चलते लालू को जेल के बाद उन्हें रिम्स अस्पताल में भर्ती करा दिया गया।

आईआरसीटीसी घोटाले का मामला 2006 का है। रांची और पुरी के दो होटलों के रख रखाव का टेंडर फर्जीवाड़ा कर के एक निजी कंपनी को देने का आरोप है। सीबीआई की तरफ से इस मामले में चार्जशीट दायर करने के बाद पटियाला हाउस कोर्ट ने सभी को नोटिस भेजा था।

सीबीआई का आरोप है कि लालू के रेलमंत्री रहते हुए रेलवे के होटल के आवंटन में गड़बड़ी की गई, जिसमें लालू यादव भी सम्मिलित थे।  इनमें लालू, राबड़ी देवी और तेजस्वी का नाम भी था। आरोप है कि इन सभी ने टेंडर देने के एवज में कथित निजी कंपनी से महत्वपूर्ण जगह पर तीन एकड़ का व्यावसायिक प्लॉट बतौर रिश्वत लिया था तो 32 करोड़ की यह जमीन 65 लाख रुपए में लालू यादव के परिवार की कंपनी मेसर्स लारा प्रोजेक्ट एलएलपी को ट्रांसफर की गई। ये टेंडर सुजाता प्राइवेट लिमिटेड को दिए गए थे।

जज ने लालू से कहा, ईश्वर हैं न, सब ठीक कर देंगे

Share.