मीडिया संवाद में बोले ‘कलम के सिपाही’

0

बदलते समय के साथ मीडिया के मूल्यों में भी परिवर्तन आया है। मीडिया ने यदि आज भी अपनी जिम्मेदारी को नहीं समझा तो वह दिन दूर नहीं, जब मीडिया को भी राजनीति और पुलिस की तरह ही परिहास का शिकार होना पड़े। ये बातें इंदौर स्थित ओम शांति भवन मुख्यालय में स्वर्गीय  ब्रह्माकुमार ओमप्रकाश भाईजी की तृतीय पुण्यतिथि के अवसर पर आयोजित मीडिया संवाद कार्यक्रम (Value Based Media, Prospects And Challenge) में मीडिया जगत की वरिष्ठ हस्तियों ने कही।

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय द्वारा ‘मूल्य आधारित मीडिया, संभावना और चुनौतियां’ (Value Based Media, Prospects And Challenge) विषय पर आयोजित मीडिया संवाद कार्यक्रम में विचार व्यक्त करते हुए विशेषज्ञों ने कहा कि समाज के मूल्यों में परिवर्तन आया है। इससे पत्रकारिता का क्षेत्र भी प्रभावित हुआ है। अब वह मानवीय मूल्यों के बजाय उपभोक्ता मूल्यों पर अधिक केन्द्रित है, पर इसका यह अर्थ नहीं है कि सब कुछ समाप्त हो गया है। एक छोटा सा दीपक भी अंधेरे को मिटाने के लिए काफी होता है। हमें सबको मिलकर कुछ ऐेसा करना होगा, जिससे पत्रकारिता एक अच्छे समाज बनाने की सहयोगी बन सके।

इस मौके पर (Value Based Media, Prospects And Challenge) पत्रिका के सम्पादक अमित मंडलोई ने कहा कि हमें सिर्फ पतन हो जाने पर ही अपनी चर्चाएं केन्द्रित नहीं रखना चाहिये। हम यह भी देखें कि  क्या अच्छा हुआ है। एक व्यक्ति की सकारात्मकता भी अनेक हो जाने की संभावना उसी तरह से रखती है, जैसे अंधकार को मिटाने के लिए एक दीपक की उपस्थिति ही काफी होती हैं।

कुशाभाऊ ठाकरे राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. मानसिंह परमार ने कहा (Value Based Media, Prospects And Challenge) कि पत्रकारिता को अपना उत्तरदायित्व समझना चाहिये। इसके लिए गीता में कई ऐसे वचन हैं, जो पत्रकारिता के उद्देश्य को लेकर सही मायने में रास्ता बताने मे समर्थ है। मीडिया शिक्षा से आजकल नई पीढ़ी को पत्रकारिता का ज्ञान मिल रहा है, यह बात संतोषजनक है।

मुख्य क्षेत्रीय समन्वयक, इंदौर क्षेत्र, ब्रह्माकुमारी हेमलता दीदी ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में पत्रकारों में बढ़ रहे तनाव तथा अन्य मनोशारीरिक रोगों के निवारण के लिए राजयोग को सबसे कारगर उपाय बतलाते हुए कहा कि इससे उनमें अपने सामने आने वाली प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करने की शक्ति भी प्राप्त होगी।

‘मूल्यानुगत मीडिया’  के सम्पादक एवं वरिष्ठ पत्रकार प्रोफेसर कमल दीक्षित ने मूल्य आधारित मीडिया को समय की ज़रूरत बताया और कहा कि यदि यह मान लिया गया कि पत्रकारिता केवल व्यवसाय ही है तो आने वाला समय बाजार और उपभोक्ता मूल्यों पर आधारित ही होगा तथा ऐेसे मूल्यों से बचा नही जा सकेगा।

स्वराज्य एक्सप्रेस के वरिष्ठ विशेष संवाददाता पुष्पेंद्र वैद्य ने अपने उद्बोधन में कहा कि, आज हर दिन पत्रकारिता के सामने नई चुनौंतियां आ रही है, पत्रकारिता को ग्लैमरस, पैसा, कमीशन के रूप में देखने वाले लोग आ रहे हैं, इससे सच्ची पत्रकारिता खतरें में है| पत्रकारिता  में वह जुनून यदि हो तो निश्चित ही आज के संवाद का उद्देश्य सफल होगा।

संजय द्विवेदी, अध्यक्ष, जनसंचार विभाग तथा रजिस्ट्रार माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय, भोपाल ने कहा कि मीडिया के बारे में अतिरिक्त चिंताएं जताई जा रही हैं| मैं समझता हूं कि सबकुछ नष्ट नहीं हुआ है। हमें धैर्य से पत्रकारिता में जो नकारात्मक बातें आ रही हैं, उनका मुकाबला करना चाहिए।

इंदौर प्रेस क्लब के अध्यक्ष अरविंद तिवारी ने अपने स्वागत उद्बोधन में कहा कि मीडिया को सदैव प्रोत्साहित करने वाले भ्राता ओमप्रकाश भाई के पुण्यस्मरण देने हेतु मीडिया संवाद का आयोजन करना ही उनको सही अर्थ में विशेष श्रद्धांजलि होगी।

कार्यक्रम (Value Based Media, Prospects And Challenge) में राजयोग की योगानुभूति भोपाल की  ब्रह्माकुमारी डॉ.रीना बहन ने करवाई । कृष्ण गौड़, प्रधान संपादक चरैवेति ने मूल्यानुगत मीडिया अभिक्रम की स्थापना का इतिहास बताया तथा मीडिया संवाद के निष्कर्ष वरिष्ठ पत्रकार जीवन साहू ने प्रस्तुत किए । आभार ‘मूल्यानुगत मीडिया’ के अध्यक्ष उज्जैन से पधारे संदीप कुलश्रेष्ठ, उज्जैन ने माना।

गश्त कर रहे जवानों पर कुत्तों का हमला

थप्पड़ के बदले कर दी हत्या

भय्यू महाराज के सेवक विनायक के खुलासे

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.