पीएम 127 ‘सूत्र-सेवा’ बसों को दिखाएंगे हरी झंडी

0

मध्यप्रदेश की अपनी बस संचालन व्यवस्था ‘सूत्र-सेवा’ के माध्यम से प्रदेश की परिवहन व्यवस्था को एक सूत्र में बांधने का प्रयास किया जा रहा है। इस व्यवस्था के लागू हो जाने से प्रदेश के सभी संभागीय मुख्यालय और दूरस्थ क्षेत्र राजधानी से बस सेवा द्वारा जुड़ जाएंगे। इसमें 20 शहरों में 700 बसों का संचालन किया जाएगा।  प्रथम चरण में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 23 जून को इंदौर में 4 नगर निगम इंदौर, भोपाल, जबलपुर और छिंदवाड़ा और 2 नगर पालिका क्षेत्र गुना और भिंड के लिए कुल 127 बसों को हरी झंडी दिखाकर योजना का शुभारंभ करेंगे।

निजी भागीदारी से शुरू होगी बस सेवा

प्रदेश में नागरिकों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा निजी भागीदारी के साथ उत्तम श्रेणी की बस सेवा प्रारंभ करवाने का निर्णय लिया गया है| इसमें भारत सरकार की अमृत योजना से मदद ली जा रही है। नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग द्वारा टेंडर जारी कर 700 बसों के संचालन के लिए निविदाएं प्राप्त कर ली गई हैं। इस सेवा में 10 लाख से अधिक आबादी वाले शहरों में केन्द्रांश 33 प्रतिशत, राज्यांश 50 प्रतिशत और निकाय का अंश 17 प्रतिशत निर्धारित किया गया है, जबकि 10 लाख से कम आबादी वालों शहरों में केन्द्रांश 50 प्रतिशत, राज्यांश 40 प्रतिशत और निकाय का अंश 10 प्रतिशत निर्धारित किया गया है।

हाईटेक होगी बस सेवा

अमृत योजना के अंतर्गत चयनित 16 नगर निगम भोपाल, इंदौर, जबलपुर, उज्जैन, ग्वालियर, देवास, मुरैना, सतना, रतलाम, रीवा, कटनी, सिंगरौली, छिंदवाड़ा, खंडवा एवं बुरहानपुर तथा 4 नगरपालिका गुना, भिंड, शिवपुरी एवं विदिशा में शहरी और अर्द्धशहरी बस सेवा उपलब्ध होगी। इस ‘सूत्र बस सेवा’ में आईटीएमएस उपकरणों जैसे जीपीएस, पीआईएस, पीएएस महिलाओं की सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए पेनिक बटन, कैमरा जैसे यंत्र लगे होंगे। इन बसों को शहरों में बनाए कंट्रोल कमांड सेंटर के साथ पब्लिक ग्रिवेन्स सिस्टम और हेड कन्ट्रोल कमांड सेंटर से सम्बद्ध किया जाएगा। इसके साथ ही यात्रियों को सिंगल टिकट सिस्टम वेबसाइट और मोबाइल एप्लीकेशन की सुविधा भी प्रदान की जा रही है।

Share.