बिहार में बाढ़ से 26 लाख लोग प्रभावित, 71 की मौत

0

बिहार में भीषण बाढ़ (bihar floods ) का कहर लगातार लोगों की मौत का कारण बनता जा रहा है| बाढ़ ने अब तक बिहार के 71 लोगों की जान ले ली है और मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ने के भी आसार है| बिहार के 12 जिले में 79 प्रखंडों की 571 पंचायत बाढ़ की चपेट में हैं जिससे 26 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हो रहे हैं| मौत के आंकड़ों की बात करें तो मोतिहारी में बाढ़ से अब तक 19 लोगों की मौत हुई है जबकि सीतामढ़ी में बाढ़ से 11 लोगों की जान गई है| अररिया में बाढ़ से10 लोगों की मौत हुई है| पूर्णिया, शिवहर और मधुबनी में बाढ़ से अब तक 7-7 लोगों की जान गई है| वहीँ सरकारी आंकड़ों ने अब तक 33 लोगों के मौत की पुष्टि की है|बिहार का पूर्वी चंपारण जिला बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित है|

अतीक अहमद के ठिकानों पर CBI की छापामारी

इसके अलावा शिवहर, सीतामढ़ी, मधुबनी, अररिया, किशनगंज, सुपौल, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, सहरसा, कटिहार और पूर्णिया में भी बाढ़ है| बता दें कि इसी तरह महाराष्ट्र के कई इलाकों में भी बाढ़ का कहर बरसा था | मुंबई में भी पिछले दिनों भीषण बाढ़ का कहर जारी था और मायानगरी में जन जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया था |बिहार व नेपाल में कोसी के जल-ग्रहण क्षेत्र में लगातार बारिश के कारण कोसी नदी अपना रौद्र रूप दिखाने लगी है। डेढ़ दशक बाद इसका डिस्‍चार्ज चार लाख क्‍यूसेक पार गया है। इससे पूर्व 2004 में यहां का डिस्चार्ज चार लाख के करीब पहुंचा था। घरों में पानी घुस जाने से तटबंध के अंदर के गांवों में अफरा-तफरी मच गई है। लोग सुरक्षित ठिकानों की तलाश में निकलने लगे हैं।

नेपाल में भारी बारिश और बाढ़ से 78 लोगों की मौत

सुपौल के 36 गांव विशेष प्रभावित हैं। जिला प्रशासन का दावा है कि वहां 14 मोटर बोट व 170 से अधिक नावों के सहारे राहत व बचाव कार्य शुरू कर दिए गए हैं। हालांकि, राहत व बचाव में लापरवाही को लेकर स्‍थानीय ग्रामीण आक्रोश में हैं। वही पड़ोसी देश नेपाल भी भीषण बाढ़ से जुंझ रहा है| नेपाल के हालत बेकाबू है और वहां अब तक बाढ़ के कारण 78 लोगों की जान जाने की खबर है| 

अब सिद्धू क्या करेंगे, ये हैं ऑप्शन्स

Share.