शर्मनाक: अस्पताल में मरीजों को ही खींचना पड़ा स्ट्रेचर

0

बीमारू राज्य के तमगे से उबरने का दावा करने वाली मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार स्वास्थ्य के मामले में लगातार नाकाम साबित होती नज़र आ रही है।  प्रदेश के सरकारी अस्पताल के हालात कुछ ऐसे हैं कि यहां मरीजों का परेशान होना एक परंपरा सी बन गई है। मंगलवार को भी एक ऐसी ही तस्वीर सामने आई जब इंदौर के एमवाय अस्पताल में एक मरीज के परिजन उसे वार्ड में शिफ्ट करने के लिए इधर-उधर भटकते रहे। आपसी विवाद के बाद मरीज को यहां लाया गया था, लेकिन उसे दिनभर से वार्ड में पलंग नहीं मिला। शाम को मरीज के परिजन खुद ही स्ट्रेचर खींचते हुए मरीज को अस्पताल की नयी बिल्डिंग में शिफ्ट करने पहुंचे।

मरीज संतोष का पैसों को लेकर आपसी विवाद हुआ था, जिसके बाद उन पर पत्थर से हमला किया गया था, इस हमले में उनकी टांग टूट गई थीं, जिसका इलाज एमवाय अस्पताल में चल रहा था। दिन भर परेशान होते रहे मरीज ने खुद ही आपबीती बताई।

मरीज के साथ आई उनकी पत्नी और दोस्तों ने जैसे तैसे मशक्कत करते हुए उन्हें अस्पताल की नयी बिल्डिंग में शिफ्ट किया, लेकिन इस काम के लिए एमवाय अस्पताल में नियुक्त किसी भी जिम्मेदार कर्मचारी ने इस काम को करने की जहमत तक नहीं उठाई। स्वास्थ्य  के क्षेत्र में मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार भले ही बड़े-बड़े दावे करती हो, लेकिन जिस तरह की तस्वीरें अस्पताल के बाहर नज़र आती है, उससे सरकारी स्वास्थ्य तंत्र की कलई खुल जाती है।

Share.