हर विषय में पास, फिर भी फेल

0

विश्वविद्यालय में होने वाली गड़बड़ियों के बारे में हम अक्सर सुनते हैं| कई शिकायतों के बाद भी विश्वविद्यालयों में होने वाली गड़बड़ियां नहीं रुक रही हैं| अभी एक और ऐसे मामले का खुलासा हुआ है, जिससे विश्वविद्यालय में चल रही धांधली के बारे में आसानी से जाना जा सकता है|

बताया जा रहा है कि मध्यप्रदेश के ग्वालियर जिले के जीवाजी विश्वविद्यालय में एक छात्र, जो सभी विषय में उत्तीर्ण था, उसे फेल कर दिया गया| जब पांचवें सेमेस्टर का ऑनलाइन परिणाम आया तो छात्र सभी विषयों में उत्तीर्ण था, लेकिन जब अंकसूची देखी तो उसे फेल कर दिया गया|

मामला श्रीराधाकुंड सरकार कॉलेज बिलौआ का है| यहां पढ़ने वाले छात्र रामू यादव ने 55 प्रतिशत से अधिक अंक हासिल किए, उसके बाद भी उसे फेल कर दिया गया| जब मामला उच्च अधिकारियों तक पहुंचा तो उन्होंने संबंधित शाखा से दस्तावेजों की पड़ताल कराई, तब पता चला कि अंकसूची की छपाई में गलती हुई है|

परीक्षा परिणाम तैयार करने वाली फर्म एलएसपीएल के कर्मचरियों को निर्देश दिए कि वे संशोधित अंकसूची जारी करें| गौरतलब है कि इसके पहले भी कई बार एलएसपीएल की लापरवाही को लेकर जेयू के अधिकारी भी शिकायत दर्ज करवा चुके हैं|

एआर अभयकांत मिश्रा के पास जब यह मामला पहुंचा तो उन्होंने संबंधित शाखा से दस्तावेजों की पड़ताल कराई। एलएसपीएल फर्म का काम देखने वाले कर्मचारियों को निर्देश दिए गए कि वे संशोधित अंकसूची जारी करें। यहां यह उल्लेखनीय होगा कि परिणाम तैयार करने वाली फर्म एलएसपीएल की लापरवाही को लेकर जेयू के अधिकारी कई बार शिकायत दर्ज करवा चुके हैं।

Share.