किसान आंदोलन के बिच निर्दयी मोदी सरकार सर्जिकल स्ट्राइक कर सकती है-पाक

0

पाकिस्तान को भारत की और से एक बार फिर सर्जिकल स्ट्राइक का डर लग रहा है. पाकिस्तान के प्रमुख अखबार एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने लिखा है कि खुफिया एजेंसियों से संकेत मिले हैं कि दिल्ली में जारी किसान प्रदर्शनों से ध्यान हटाने के लिए भारत फिर कोई दुस्साहस कर सकता है. अखबार ने सेना के सूत्रों के हवाले से लिखा है कि सर्जिकल स्ट्राइक की आशंका से पाकिस्तान ने भारत से लगी सीमा पर सैनिकों को हाई अलर्ट कर दिया है.

एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने लिखा है, “भारत की हिंदुत्ववादी नरेंद्र मोदी सरकार देश में जारी विरोध-प्रदर्शनों को कमजोर करने के लिए कुछ भी कर सकती है. भारत ये भी नहीं चाहता है कि सिख किसानों के नेतृत्व में हो रहे आंदोलन से खालिस्तानी आंदोलन को हवा मिले.” अखबार ने लिखा है कि कई विश्वसनीय सूत्रों से पता चला है कि एलओसी (लाइन ऑफ कंट्रोल) और भारत-पाकिस्तान वर्किंग बाउंड्री पर पाकिस्तानी सैनिकों को हाई अलर्ट पर कर दिया गया है ताकि भारत के किसी भी दुस्साहस का जवाब दिया जा सके. पाकिस्तान के अखबार जियो न्यूज ने भी ये खबर छापी है.

पाकिस्तान के अखबार जियो न्यूज ने लिखाई इसी मुद्दे को लेकर लिखा है कि पाकिस्तान ने भारत के किसी फ्लैग ऑपरेशन या सर्जिकल स्ट्राइक की आशंका से सेना को अलर्ट पर रखा है. अखबार ने लिखा है कि भारत अपनी आंतरिक और बाहरी समस्याओं से ध्यान हटाने के लिए पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक कर सकता है. अखबार ने लिखा है कि अल्पसंख्यकों, किसान आंदोलन और कश्मीर को लेकर भारत पर बहुत ज्यादा दबाव है. भारत लद्दाख में भी चुनौतियों का सामना कर रहा है.

पाकिस्तान के विज्ञान एवं तकनीक मंत्री फवाद चौधरी ने किसानों के आंदोलन को लेकर ट्वीट किया था, ‘निर्दयी मोदी सरकार को पंजाब के किसानों की कोई परवाह नहीं है. फवाद चौधरी ने अपने ट्वीट में ना केवल भारत के आंतरिक मसले पर टिप्पणी की बल्कि भारतीय किसानों में फूट डालने की कोशिश भी की. उन्होंने ‘गुजराती हिंदुत्व’ को दोष देते हुए पंजाबी किसानों के साथ सहानुभूति जताई.

Share.