OMG: छह हजार अभ्यर्थी शिक्षक भर्ती प्रक्रिया से होंगे बाहर ! जानिए कारण

0

आरक्षण को लेकर देश में कई जगहों पर आंदोलन किए गए| अभी भी आरक्षण की आग शांत नहीं हुई है| अब इसी कारण शिक्षक भर्ती प्रक्रिया से लगभग छह हजार लोगों को पात्र होने के बाद भी बाहर कर दिया गया है| दरअसल, शुक्रवार को प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षक भर्ती की नियुक्ति प्रक्रिया के अंतर्गत परिणाम जारी किया गया| इसमें 34660 अभ्यर्थी सफल घोषित हुए| चुने गए नवनिर्मित शिक्षकों को जिलों का आवंटन भी किया जा चुका है| इस परीक्षा में 41556 सफल अभ्यर्थियों में से 40669 ने काउंसलिंग के लिए आवेदन किया था, लेकिन आरक्षण के कारण 6009 सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी पात्र होते हुए भी बाहर कर दिए गए हैं|

सरकार सामान्य वर्ग को किया जा रहा पीछे

अब यह आरोप लगाए जा रहे हैं कि नियुक्ति देने में सामान्य वर्ग में 80 अंक से नीचे वालों को रोका जा रहा है| परिणाम आने के पहले आरक्षण लागू कर सरकार सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को पीछे करना चाहती है| इसके कारण टॉप मेरिट में शामिल बड़ी संख्या में सामान्य वर्ग के छात्र चयन से बाहर हो गए हैं। अभ्यर्थियों का कहना है कि एक ही भर्ती में कई स्तर पर आरक्षण दिया गया है| पीड़ित लोग परिणामों के खिलाफ कोर्ट जाने की बात कह रहे हैं|

आवेश में कदम न उठाएं

प्रमुख सचिव बेसिक प्रभात कुमार ने ट्वीट किया, “शिक्षक भर्ती प्रक्रिया से बाहर हुए अभ्यर्थी निराश न हों, यदि कोई अयोग्यता नहीं हुई तो हम उनको भी नियुक्ति देंगे| हम एनआईसी से बात कर रहे हैं कि बचे हुए अभ्यर्थियों को श्रेणीबद्ध करके उनकी मेरिट तैयार की जाए|” उन्होंने इस बारे में कहा, “आरक्षण नियमों के चलते कुछ अभ्यर्थी बाहर ज़रूर हुए हैं, लेकिन उनको निराश होने की ज़रूरत नहीं है| सरकार उनकी नियुक्ति करेगी| अपील की कि आवेश में कोई गलत कदम न उठाए|”

-रंजीता पठारे

15 अगस्त से शुरू होगी शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया

9232 पदों पर शिक्षकों की भर्ती

Share.