ट्रेन छूटने पर कैब से वसूला हर्जाना

0

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के न्यू मीनाल रेसीडेंसी निवासी शिवम रघुवंशी ने ओला कैब के खिलाफ एक परिवाद दायर किया था। दरअसल, शिवम रघुवंशी को अपने भाई के साथ 27 अगस्त 2015 को हबीबगंज से जबलपुर तक की ट्रेन पकड़नी थी। ट्रेन का समय सुबह 5.30 बजे था, जिसके लिए न्यू मीनाल से शिवम रघुवंशी ने 4.45 बजे की ओला कैब बुक करवाई थी। कैब बुक करवाने पर उनके पास कैब की जानकारी का मैसेज आया, जिसमें ड्राइवर का नाम अभिषेक मालवीय, गाड़ी नंबर इंडिगो (एमपी-17/टीए-2230) दिया गया था और पिकअप टाइम 4.45 बजे का दिया गया था।

इसके बाद 4.30 बजे शिवम को फिर एक मैसेज मिला जिसमे 10 मिनट में कैब पहुंचने की जानकारी दी गई थी। इसके बाद कैब 5 बजे तक नहीं पहुंची तो शिवम ने ड्राइवर से संपर्क किया, जिस कैब ड्राइवर ने बताया कि वह रास्ते में है और अगले 10 मिनट में पहुंच जाएगा। इसके बाद भी कैब नहीं आने पर फिर से ड्राइवर को शिवम में फ़ोन लगाया। इस बार ड्राइवर ने बताया कि वह लालघाटी पर है और उसे आने में 1 घंटे का समय लगेगा। कैब के समय से न पहुंचने पर शिवम की ट्रेन छूट गई। शिवम ने कैब प्रबंधक भोपाल और सीईओ ओला कैब मुंबई के खिलाफ फोरम में शिकायत दर्ज करवाई।

इस शिकायत पर ओला कैब कंपनी की ओर से तर्क दिया गया कि वाहन 12 मिनट लेट पहुंचेगा| इस बात की सूचना मैसेज के माध्यम से दे दी गई थी। इस पर फोरम का कहना था कि ओला कैब का सॉफ्टवेयर और जीपीएस सिस्टम है, और उपभोक्ता को मैसेज के जरिये जानकारी दे दी गई थी, यह कहकर पल्ला नहीं झाड़ा जा सकता। फोरम के अध्यक्ष आरके भावे और सदस्य सुनील श्रीवास्तव ने इस शिकायत की सुनवाई करते हुए, ओला कंपनी को ट्रेन ई-टिकट का किराया  835 रुपए शिवम को देने, पांच हजार रुपए हर्जाना और 3 हजार रुपए परिवाद व्यय देने का आदेश दिया है।

एटीसी ने रोका बड़ा हादसा

खदान में फंसे मजदूरों की ऐसे करेंगे मदद

सिर्फ 7 घंटे में दिल्ली से प्रयागराज पहुंची ट्रेन

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.