अब 50% कम होगा सिलेबस, इस फील्ड पर रहेगा फोकस

1

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने गुरुवार को नई शिक्षा नीति के बारे में बयान दिया| उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के लक्ष्य के अनुसार, अब सभी कक्षाओं के सिलेबस में लगभग 50 प्रतिशत की कटौती की जाएगी| केंद्रीय मंत्री ने बताया कि इसका काम शुरू किया जा चुका है| अब प्रतिवर्ष 10-15 फीसदी सिलेबस कम किया जाएगा|

इंसान का दिमाग सिर्फ डेटा बैंक नहीं

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि इंसान का दिमाग सिर्फ डेटा बैंक नहीं है इसलिए मोदी सरकार ने सिलेबस कम करने का फैसला लिया है| उन्होंने दावा किया है कि अब सरकार कांग्रेस सरकार के कार्यकाल से चले आ रहे ‘सर्व शिक्षा अभियान’ को ‘समग्र शिक्षा अभियान’ में बदलने का कार्य कर रही है| इसके अंतर्गत स्पोर्ट्स पर फोकस किया जाएगा| केन्द्र और राज्य सरकार स्पोर्ट्स का सामान खरीदने के लिए फण्ड की व्यवस्था करेगी|

जरूरी होगा खेल

स्कूल में अब पढ़ाई के साथ ही बच्चों के लिए खेल भी अनिवार्य कर दिया जाएगा| जहां बच्चों के सिलेबस को कम कर आधा किया जाएगा वहीं स्कूल के बच्चों को कोई न कोई खेल खेलना भी ज़रूरी हो जाएगा| ऐसा करने से बच्चे का समग्र विकास होगा|

जावड़ेकर ने आगे कहा कि जब यूजीसी का गठन  किया गया था, तब देश में यूनिवर्सिटी और कॉलेज की संख्या कम थी, तब यूजीसी सबकुछ तय करने की  स्थिति में था और वह रेगुलेटर से अधिक काम करता रहा, लेकिन अब देश में यूनिवर्सिटी और कॉलेज की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है| जहां हजारों की संख्या में कॉलेज और यूनिवर्सिटी और लाखों की संख्या में छात्र हैं तो यूजीसी की भूमिका में बदलाव की ज़रूरत है|

Share.