नए लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला का सफ़रनामा

0

आख़िरकार मोदी सरकार (modi govt 2.0) 2.0 में लोकसभा अध्यक्ष के चुनाव की मोहर लग चुकी है और इस बार यह जिम्मेदारी मिली है, राजस्थान के कोटा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के सांसद ओम बिड़ला (Om Birla Biography ) को। इससे पहले बिरला 2008 में 13वी राजस्थान विधानसभा के लिए दक्षिण कोटा से विधायक भी रह चुके हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई वरिष्ठ दावेदार नेताओं में से ओम बिरला को बतौर लोकसभा स्पीकर चुनकर न केवल एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी है बल्कि बिड़ला का भाजपा में कद भी बढ़ाया है। फिलहाल, बिड़ला को बतौर एनडीए (NDA) के उम्मीदवार के रूप लोकसभा अध्यक्ष के पद के लिए चुनने की वजह भी ख़ास हैं।

बिड़ला मात्र 17 साल की उम्र में छात्र संघ अध्यक्ष बन चुके थे। इसके अलावा वह 3 साल तक भारतीय जनता युवा मोर्चा के ज़िला अध्यक्ष के तौर पर भी कार्यरत रहे।  (Om Birla Biography) उसके बाद उन्होंने राजस्थान में भाजपा के यूथ विंग के प्रदेश अध्यक्ष की भुमिका निभाई और पार्टी को आगे  बढ़ाने में अपना योगदान दिया।

ओम बिड़ला का जन्म 23 नवंबर 1962 राजस्थान के कोटा ज़िले में हुआ। शुरू से ही बिड़ला छात्र राजनीति में सक्रिय रहे और 1979 में छात्र संघ के अध्यक्ष बने। 1991 से 12 वर्षों तक, बिड़ला भारतीय जनता युवा मोर्चा में राज्य स्तर पर अध्यक्ष के रूप में एक प्रमुख नेता थे। नरेंद्र मोदी द्वारा बिड़ला को चुने जाने का कारण उनका सामाजिक योगदान भी रहा है।

एक सक्रिय सांसद (Om Birla Biography) होने के अलावा ओम बिड़ला सामाजिक कल्याण में भी योगदान देते रहें है। उनमें से एक 2012 में शुरू किए गए परधान समूह शामिल हैं।  परिधान समूह समाज के कमजोर वर्ग के लिए कपड़े और किताबें वितरित करने के अलावा रक्तदान शिविर का भी आयोजन करवाता हैं। बिरला द्वारा गरीबों के लिए एक मुफ्त भोजन कार्यक्रम और एक दवा बैंक भी शुरू किया है। आज वे सर्वसम्मति से भारत की 17वीं लोकसभा के अध्यक्ष पद पर काबिज़ है|   

Share.