website counter widget

image1

image2

image3

image4

image5

image6

image7

image8

image9

image10

image11

image12

image13

image14

image15

image16

image17

image18

अमृतसर ट्रेन हादसे में सिद्धू को क्लीनचिट

0

अमृतसर रेल हादसे में पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू और उनकी पत्नी को क्लीनचिट मिल गई है। मजिस्ट्रेट इन्क्वॉयरी ने इन दोनों को क्लीन चिट दी है। इस वर्ष दशहरे के दिन अमृतसर रेल हादसे में 61 लोगों की मौत हो गई थी। लोग रावण दहन देखने के लिए एकत्रित हुए थे। रेलवे क्रॉसिंग के पास रावण दहन का आयोजन किया गया, जिसमें नवजोत कौर भाषण दे रही थीं।

300 पन्नों की जांच रिपोर्ट

पंजाब सरकार ने मुताबिक, अमृतसर रेल हादसे की 300 पन्नों की जांच रिपोर्ट 21 नवंबर को पंजाब सरकार को सौंपी थी। उसमें नवजोतसिंह सिद्धू और उनकी पत्नी नवजोत कौर सिद्धू को क्लीनचिट दी गई है। जालंधर के डिविजनल कमिश्नर बी.पुरुषार्थ ने यह जांच पूरी करके अपनी रिपोर्ट पंजाब सरकार को सौंपी थी। आगे इस रिपोर्ट का क्या कार्रवाई करनी है, यह मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदरसिंह तय करेंगे।

सिद्धू नहीं थे मौजूद

रिपोर्ट में लिखा है कि नवजोतसिंह सिद्धू घटना के दिन अमृतसर में मौजूद नहीं थे। वहीं नवजोत कौर सिद्धू कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थीं। चीफ गेस्ट किसी भी वेन्यू पर जाकर यह चेक नहीं करता कि वहां किस तरह के इंतजाम हैं। यह आयोजकों को ही सुनिश्चित करना होता है।

कांग्रेस पार्षद निशाने पर

रिपोर्ट में नवजोतसिंह सिद्धू के करीबी और स्थानीय कांग्रेस पार्षद के बेटे सौरभ मिट्ठू मदान की भी गलती बताई गई है। उनके बारे में कहा गया है कि उन्होंने इस कार्यक्रम के लिए न तो सही तरीके से तमाम विभागों से अनुमति ली और न ही लोगों की सुरक्षा के लिए ज़रूरी कदम उठाए। रिपोर्ट में लिखा है कि आयोजकों ने दशहरे के कार्यक्रम को काफी देर से शुरू किया और आयोजकों ने सिद्धू दंपति के नाम का फायदा उठाया है।

अमृतसर ट्रेन हादसे में रेलवे को क्लीनचिट

एक मेल पढ़ लेते तो नहीं होता अमृतसर ट्रेन हादसा!

ये है अमृतसर रेल नरसंहार की जिम्मेदार

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.