हथियार में भारत के निवेश पर दुनिया की नजर

0

भारत अपनी रक्षा शक्ति बढ़ाने का निरंतर प्रयास कर रहा है| भारत की भव्य रक्षा प्रदर्शनी तमिलनाडु के कांचीपुरम जिले के तिरुवेदांती में शुरू हो गई है| प्रदर्शन में घरेलु रक्षा कंपनियों के अलावा दुनिया भर से आई रक्षा के क्षेत्र में बड़ी कंपनियां आधुनिक हथियारों और रक्षा उत्पादों का प्रदर्शन कर रही हैं|

भारत के रक्षा समझौतों और योजनाओं को देखते हुए एक्सपर्ट्स का मानना है कि भारत अगले पांच वर्षों में 1900 हजार अरब रूपए खर्च करने की योजना बना रहा है| दुनिया की लगभग सभी कंपनियों की नजरें इन सौदों पर रहेंगी|

रक्षा के क्षेत्र में भारत सैन्य उत्पादक का आयातक है लेकिन केंद्र सरकार 10वीं रक्षा प्रदर्शनी के जरिये भारत को सैन्य उत्पादन केंद्र के रूप में बदलने की कोशिश कर सकता है| इस चार दिवसीय प्रदर्शनी का औपचारिक उद्घाटन आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे|| रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने ट्वीट किया की पहली बार डिफेन्स एक्सपो इंडिया में भारत अपनी रक्षा क्षमता का प्रदर्शन करेगा|

बता दें कि इस प्रदर्शनी में भारत स्वदेश तकनीक से विकसित सैन्य हेलीकॉप्टर, विमान, मिसाइल, रॉकेट, पनडुब्बियों और जंगी जहाज की क्षमता का प्रदर्शन करेगा| टाटा, एलएंडटी, कल्याण, भारत फोर्ज, महिंद्रा जैसे कंपनियां इस प्रदर्शनी में हिस्सा ले रहीं हैं|

Share.