कुशीनगर हादसे में किसकी गलती?

0

उत्तरप्रदेश के कुशीनगर में स्कूली बच्चों से भरी वैन के रेलवे क्रॉसिंग पर ट्रेन से टकरा जाने से कई बच्चों की मौत हो गई| इस हादसे में कई परिवारों ने अपने बच्चे खो दिए हैं| हादसे के बाद उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ कई लोगों ने दुःख जताया है|

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, यह हादसा वैन चालक की लापरवाही के कारण हुआ| मानवरहित रेलवे क्रॉसिंग होने के बाद भी चालक ने अनदेखी की और जब उसे दूसरे लोग वैन रोकने के लिए बोल रहे थे, तब उसके कानों पर हेडफोन लगे थे| चालक ने लापरवाही से रेलवे पार करने की कोशिश की और सभी बच्चे उसकी लापरवाही की बलि चढ़ गए|

चालक गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में जिन्दगी और मौत के बीच झूल रहा है वहीं हादसे में जान गवांने वाले बच्चों की संख्या बढ़ती ही जा रही है और कई दिल दहला देने वाले खुलासे हो रहे हैं| बताया जा रहा है कि दुर्घटना में एक ही परिवार के तीन मासूमों की मौत हो गई, जिससे परिवार का अब कोई बच्चा नहीं बचा|

वहीं प्रशासन ने जब डिवाइन स्कूल प्रबंधन की जांच की तो पता चला कि स्कूल बिना मान्यता के चल रहा था और इसकी प्रशासन को कानों-कान खबर तक नहीं थी| घटना के बाद से ही स्कूल के प्रिंसिपल और मैनेजर फरार हैं|

उत्तर पूर्व रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी संजय यादव ने ​बताया​ कि हादसा कुशीनगर जिले के कप्तानगंज थाने के पास दुदुही रेलवे स्टेशन के पास एक मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग पर आज सुबह सात बज कर दस मिनट पर हुआ| वैन सिवान गोरखपुर पैसेंजर ट्रेन (55075) की चपेट में आ गई|

इस घटना के बाद रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने मामले से अपना पल्ला झाड़ते हुए कहा कि रेलवे क्रॉसिंग पर होने वाले हादसों में रेलवे की गलती नहीं होती है| प्रदेश के मुख्यमंत्री ने घटनास्थल पर पहुंचकर लोगों को सांत्वना दी|

Share.