हम कहां जा रहे हैं, कैसा समाज बना रहे हैं..

0

देश में दुष्कर्म के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है| इन मामलों के लेकर देश में काफी आक्रोश है| कई जगह कैंडल मार्च निकाला गया और आरोपियों को मौत की सजा सुनाने की अपील भी की जा रही हैं| अब इस मामले पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दुःख जताया है| महामहिम जम्मू-कश्मीर में श्माता वैष्णोदेवी यूनिवर्सिटी के छठे दीक्षांत समारोह में शामिल होने गए थे, जहां उन्होंने दुष्कर्म जैसी घटनाओं पर दुःख जताया|

राष्ट्रपति ने कहा, “एक बच्ची के साथ जो कुछ भी प्रदेश में हुआ बेहद गलत था, उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती है| आजादी के 70 वर्ष बाद भी यदि देश के किसी हिस्से में इस तरह की घटना होती है तो यह बेहद शर्मनाक है| हम कहां जा रहे हैं, कैसा समाज बना रहे हैं|”

उन्होंने आगे कहा, “कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत की बेटियां अपना परचम लहरा रही हैं| आज दुनिया भारतीय बेटियों का लोहा मान रही है, लेकिन हम कुछ नहीं कर पा रहे हैं|” अपने भाषण के दौरान उन्होंने देश की कई बेटियों जैसे सानिया नेहवाल, मैरीकॉम, मनिका और पीवी सिंधु के नामों का उदाहरण भी दिया|

Share.