बैंक खातों में कब आएंगे 15 लाख रुपए ?

0

2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि सबके बैंक खाते में 15 लाख रुपए आएंगे। उनका यह वादा उनके लिए मुसीबत बनता जा रहा है। पीएम मोदी के इस वादे को अक्सर मुद्दा बनाकर विपक्ष मोदी सरकार को घेरता है। अब तक इस सवाल का जवाब किसी को नहीं मिल पाया कि आखिर कब आएंगे बैंक में 15 लाख रुपए, लेकिन अब खुद पीएमओ इस सवाल का जवाब नहीं दे पा रहा है। एक आरटीआई में जब पूछा गया कि बैंक खातों में कब आएंगे 15 लाख रुपए तो वहां से मात्र 2 शब्दों में जवाब आया, पता नहीं ?

क्या है मामला

दरअसल एक आरटीआई मोहन शर्मा ने पीएमओ से यह सवाल किया कि 2014 में लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान 15 लाख रुपए देने के वादे के मुताबिक, देश के लोगों को 15 लाख रुपए कब मिलेंगे। आपको बता दें कि मोहन शर्मा ने नोटबंदी के 18 दिन बाद यह याचिका डाली थी।

पीएमओ का जवाब

इसके जवाब में पीएमओ की तरफ से कहा गया, पता नहीं? पीएमओ ने केंद्रीय सूचना आयोग से कहा कि यह आरटीआई एक्ट के तहत कोई सूचना नहीं है इसलिए इसकी जानकारी या जवाब नहीं दिया जा सकता है। केंद्रीय सूचना आयोग में सुनवाई के दौरान मोहन ने मुख्य सूचना आयुक्त आरके माथुर को बताया कि पीएमओ और रिजर्व बैंक ने उन्हें पूरी जानकारी उपलब्ध नहीं कराई है। इस पर आरके माथुर ने भी पीएमओ की दलील को सही बताया है।

कार्रवाई संतोषजनक है

आपको बता दें कि सूचना के अधिकार अधिनियम के धारा 2(एफ) के मुताबिक, किसी भी प्रारूप में कोई भी सामग्री सूचना है। इसमें रिकॉर्ड्स, दस्तावेज, मेमो, ई-मेल, प्रेस, आदेश, लॉगबुक, अनुबं, रिपोर्ट, कागजात, नमूने, मॉडल, किसी इलेक्ट्रॉनिक प्रारूप में रखी गई डाटा सामग्री और किसी निजी निकाय के संबंधित सूचना जो किसी लोक प्राधिकारी के पास किसी कानून के तहत उपलब्ध हो। अपने आदेश में आरके माथुर ने कहा कि पीएमओ और रिजर्व बैंक द्वारा आरटीआई आवेदन पर की गई कार्रवाई पूरी तरह संतोषजनक है।

Share.