NRC पर अमित शाह ने दिया बड़ा बयान

0

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) के प्रचार के दौरान तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) पश्चिम बंगाल (West Bengal) पहुंचे थे और जमकर बरसे थे। अब आज यानि मंगलवार को शाह फिर से पश्चिम बंगाल पहुंचे हैं, लेकिन अब वे देश के गृहमंत्री हैं। आज उन्होने कोलकाता में एनआरसी जागरूकता कार्यक्रम बड़ा बयान दिया।

हिंदू शरणार्थियों को बंगाल नहीं छोड़ना पड़ेगा

गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) ने कहा कि अनुच्छेद 370 (Article 370) को हटाने की आवाज सबसे पहले पश्चिम बंगाल (West Bengal) से ही उठी। श्यामा प्रसाद मुखर्जी (Shyama Prasad Mukherjee) ने यहीं से एक देश, एक संविधान का नारा दिया था। जहां हुए बलिदान मुखर्जी वह कश्मीर हमारा है। शाह ने आगे कहा कि हिंदू शरणार्थियों को बंगाल नहीं छोड़ना पड़ेगा। मैं आपको स्पष्ट कहना चाहता हूं कि हम एनआरसी ला रहे हैं, उसके बाद हिंदुस्तान में एक भी घुसपैठिए को रहने नहीं देंगे, उन्हें चुन-चुनकर बाहर करेंगे। बीजेपी सरकार एनआरसी के पहले सिटिजन अमेंडमेंट बिल लाने वाली है, इस बिल के तहत भारत में जितने भी हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, ईसाई शरणार्थी आए हैं उन्हें हमेशा के लिए भारत की नागरिकता दी जाने वाली है।

श्यामा प्रसाद की शहादत को याद दिलाते हुए उन्होने कहा कि श्यामा प्रसाद की शहादत के बाद कांग्रेस को लगा कि मामला अब समाप्त हो गया, लेकिन उन्हें पता नहीं कि हम बीजेपी वाले हैं किसी चीज को पकड़ते हैं तो फिर उसे छोड़ते नहीं हैं। आपने इस बार बीजेपी सरकार बनाई और हमने एक ही झटके में 370 को उखाड़कर फेंक दिया। इसी बंगाल के सपूत डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने नारा लगाया था कि एक देश में दो प्रधान, दो विधान और दो संविधान नहीं चलेंगे। बंगाल की जनता का योगदान बीजेपी को 300 से ज्यादा सीटें दिलाने में है, तभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक झटके में अनुच्छेद 370 को उखाड़ फेंका। अब हम उनके साथ अन्याय नहीं होने देंगे।

     – Ranjita Pathare

 

Share.