website counter widget

सस्ते कॉल रेट्स के दिन ख़त्म,1 दिसंबर से महंगे होंगे सभी प्लान

0

भारतीय दूरसंचार(Indian Telecom) एक नई क्रांति की ओर जा रही है।टेलीकॉम क्षेत्र में चल रही उठा-पटक के बीच सभी टेलीकॉम कंपनियों का कहना है कि वे भयंकर घाटे में चल रही हैं। कुछ दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने वोडाफोन आइडिया (Vodafone idea) को समायोजित सकल राजस्व(Adjusted gross revenue) के रूप में 44,200 करोड़ रुपये समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) 90 दिनों के अंदर भुगतान करने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) जिसके बाद वोडाफोन आइडिया ने टैरिफ प्लान की कीमतें बढ़ाने का एलान किया है। वोडाफोन आइडिया की ओर जारी एक बयान में कहा गया है कि एक दिसंबर से कंपनी टैरिफ प्लान की कीमतें बढ़ाने जा रही है जिसका सीधा असर कंपनी के करीब 37 करोड़ ग्राहकों पर पड़ेगा। हालांकि कंपनी ने यह नहीं बताया है कि टैरिफ प्लान(Tariff plan) में कितने प्रतिशत या कितने रुपये की वृद्धि होगी, लेकिन यह जरूर कहा है कि भारत में पूरी दुनिया के मुकाबले डाटा प्लान सस्ते हैं। ऐसे में कंपनी डाटा प्लान की कीमतों में इजाफा कर सकती है।

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने शिवसेना पर लगाया बड़ा इल्जाम

वोडाफोन आइडिया के बाद अब एयरटेल ने भी टैरिफ में वृद्धि का ऐलान किया है। एयरटेल(Airtel) ने अपने एक बयान में कहा है कि एक दिसंबर से उसके भी टैरिफ प्लान महंगे होंगे। एयरटेल ने अपने एक बयान में कहा, ‘हम समझते हैं कि ट्राई भारतीय मोबाइल क्षेत्र में मूल्य निर्धारण में तर्कसंगतता लाने के लिए राय-विमर्श करेगी और नई कीमतें तय करेगी।’ बता दें कि देश की तीन बड़ी टेलीकॉम कंपनियां वोडाफोन आइडिया और भारती एयरटेल आर्थिक संकट से जूझ रही हैं।

आयोध्या फैंसले के बाद राम बारात में पीएम मोदी और सीएम योगी बने बाराती!

वोडाफोन-आइडिया को चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 50,922 करोड़ रुपये का एकीकृत घाटा हुआ है. किसी भारतीय कंपनी का एक तिमाही में यह अब तक का सबसे बड़ा तिमाही नुकसान है.भारती एयरटेल ने चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 23,045 करोड़ रुपये का घाटा दर्ज किया है. समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए आदेश के बाद से कंपनियों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इसकी वजह से दूसरी तिमाही में कंपनियों को कॉर्पोरेट इतिहास में अभी तक का सबसे बड़ा तिमाही घाटा हुआ है। कंपनियों को कुल 74,000 करोड़ रुपये का घाटा हुआ।

नए फॉर्मूले के साथ शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस में बनी बात

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.