हैदराबाद रेप-मर्डर का आरोपी ओवैसी का भांजा!

0

अपने विवादित बयानों से हमेशा सुर्खियों में छाए रहने वाले AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) एक बार फिर चर्चा का विषय बने हुए हैं। हालांकि इस बार वे किसी विवादित बयान के कारण नहीं बल्कि सोशल मीडिया, यूट्यूब और व्हाट्सएप पर वायरल हो रहे एक वीडियो के कारण सुर्ख़ियों में छाए हुए हैं। दरअसल इस वायरल हो रहे वीडियो में हैदराबाद कांड के आरोपी मोहम्मद पाशा को असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) का भांजा बताया जा रहा है। इस वीडियो में इस बात का दावा किया जा रहा है कि हैदराबाद पुलिस के एनकाउंटर में मारा गया वेटनरी डॉक्टर से गैंगरेप का आरोपी मोहम्मद पाशा ओवैसी का भांजा है।

2 साल बाद फिर क्यों मिले रामरहीम, हनीप्रीत से

यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है और इस वीडियो के साथ कई दावे भी किए जा रहे हैं। इस वीडियो को लेकर जो दावे किए जा रहे हैं उनमें, मोहम्मद पाशा को असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) का भांजा बताया जा रहा है। वहीं दूसरे दावे में गैंगरेप पीड़िता को एक ऐक्टिविस्ट बताया जा रहा है जो गौ तस्करी के खिलाफ काम करती थीं। इतना ही नहीं इस वीडियो में यह भी दावा किया जा रहा है कि प्रियंका रेड्डी ने कई मुस्लिम गौ तस्करों को गिरफ्तार भी करवाया था। तीसरे दावे में कहा जा रहा है कि AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने ही इस पूरे घटनाक्रम की साजिश रची थी और उसी के मुताबिक उसे अंजाम दिया।

आतंक, नक्सल और बलात्कार के लिए नेहरू जिम्मेदार!

क्या दावों का सच

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो में जो दावे किए जा रहे हैं उनकी पड़ताल की गई। इन दावों की पड़ताल करने पर जो सच सामने आया वह इन दावों के उलट निकला। पड़ताल में पता चला कि न तो पाशा का असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) से कोई नाता है न ही दूर-दूर तक कोई पहचान। इसके अलावा दूसरा दावा भी इस पड़ताल में गलत पाया गया। दूसरे दावे में कहा गया था कि पीड़िता गौ तस्करी के खिलाफ काम करने वाली ऐक्टिविस्ट थी जो पूरी तरह से गलत है। पीड़िता कोई ऐक्टिविस्ट नहीं थी। इन दो दावों के सच सामने आने के बाद तीसरे दावे का कोई सवाल ही नहीं उठता।

इस मामले की पूरी पड़ताल एक अंग्रेजी अखबार द्वारा की गई। वहीं इसके बाद इस वीडियो को लेकर खुद असदुद्दीन ओवैसी से भी संपर्क किया गया। ओवैसी ने इस वीडियो को बकवास बताते हुए सारे दावों को खारिज कर दिया। वहीं ओवैसी ने कहा कि इस मामले में उन्होंने हैदराबाद की सायबर सेल में फेक न्यूज़ चलाने वाली वेबसाइट के खिलाफ शिकायत भी दर्ज करवाई है। ओवैसी ने कहा, “मेरी पार्टी के PRO ने हैदराबाद पुलिस के सायबर सेल में फेक न्यूज फैलाने वाली इन सभी वेबसाइट्स के खिलाफ शिकायत दर्ज की है।”

कांग्रेस के कारण लाया गया ‘नागरिकता संशोधन बिल’

Prabhat Jain

Share.