आप भी देखिए उन्नाव कांड के भेड़ियों के Viral Photo

0

उन्नाव मामले (Unnao Gang Rape ) की पीड़िता ने आखिर दम तोड़ ही दिया। पीड़िता की मौत हमारे देश की न्याय व्यवस्था, सरकार, सभी नेताओं के मुंह पर जोरदार तमाचा है क्योंकि दुष्कर्म के मामले में भी यदि आरोपी को जमानत देने का प्रावधान नहीं होता, तो शायद देश की एक और बेटी यूं हार न जाती। इस मामले के सभी दरिंदों की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल (Unnao Gang Rape Accused Photo Viral ) हो रही  है। दिसंबर 2018 में युवती के साथ दरिंदगी की गई, उसे वीडियो बनाकर धमकी दी गई, लेकिन तब भी पुलिस की आंखे नहीं खुली। चार महीने तक पीड़िता ने थाने के चक्कर लगाए, जिसके बाद मार्च 2018 में पुलिस ने एफआईआर दर्ज की।

फडणवीस के सामने PM मोदी से खास अंदाज में मिले CM ठाकरे  

युवती ने एफआईआर में बताया था कि गांव के रहने वाले शिवम त्रिवेदी से उसका प्रेम संबंध था। शिवम ने शादी का झांसा दिया और उसके साथ जबरदस्ती कर वीडियो बनाया। इसके बाद दोनों के परिवार वाले  उनकी शादी करवाने के लिए मान गए।  लेकिन कुछ समय बाद आरोपी ने शादी से मना कर दिया। जब पीड़िता ने शादी का दबाव बनाया तो उसे रायबरेली ले जाकर एक कमरे में रख दिया गया। जहां उसके साथ कई बार शिवम ने कई बार दरिंदगी की। इसके बाद शिवम त्रिवेदी और शुभम त्रिवेदी पीड़िता को मंदिर में शादी का बोलकर ले गए और वहाँ गैंगरेप किया उसका वीडियो बनाया।

Unnao Rape Case : धरने पर बैठे अखिलेश यादव, मायावती ने दी नसीहत

पुलिस ने बताया कि शुभम और शिवम गैंगरेप मामले में दो दिन पहले ही जेल से जमानत पर रिहा हुए थे। रायबरेली कोर्ट के आदेश पर रेप का केस दर्ज किया गया था। राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने उत्तरा प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह को पत्र लिखा और इस मामले में रिपोर्ट मांगी है। इसमें पूछा गया है कि पीड़ित को सुरक्षा मुहैया नहीं कराने पर किन पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। आयोग ने पीड़िता के केस दर्ज करवाने की तारीख से अब तक की कार्रवाई का पूरा ब्योरा मांगा है।

बिहार सीएम नीतीश कुमार ने दुष्कर्म के लिए इसे ठहराया जिम्मेदार

           – Ranjita Pathare 

 

Share.