सुषमा स्वराज के वो 10 रिकॉर्ड जो हमेशा रहेंगे याद

0

1977 में, सुषमा स्वराज पहली बार कैबिनेट मंत्री बनीं। हलाकि वो हरियाणा से कैबिनेट मंत्री बनीं थी, लेकिन भारत में सबसे कम उम्र कि कैबिनेट मंत्री बनने वाली वह पहली महिला थी। सुषमा (Sushma Swaraj Top 10 Records ) मात्र 25 साल कि उम्र में कैबिनेट मंत्री बन चुकीं थी। यह वो दौर था जब हरियाणा में देवीलाल कि सरकार हुआ करती थी और सुषमा को बतौर कैबिनेट में बतौर शिक्षा मंत्री चुना गया। 

Video : Sushma Swaraj का शव देखकर फूट-फूट कर रोये MDH के मालिक

Video Sushma Swaraj Top 10 Records :

सुषमा स्वराज का दूसरा रिकॉर्ड कुछ ऐसा था कि जब वह इतनी कम उम्र में किसी भी पार्टी का स्टेट प्रेसिडेंट बनने वाली पहली महिला थीं। 1979 में सुषमा सबसे कम उम्र में हरियाणा जानता पार्टी की स्टेट प्रेसिडेंट बनीं। उस समय उनकी उम्र महज़ 27 वर्ष थी। उनके पति स्वराज कौशल जॉर्ज फेर्नांडीस के साथ काम करते थे और (Top 10 records of Sushma Swaraj)) इसी बीच सुषमा की पॉलिटिकल एंट्री समाजवादीयों के साथ थी। क्योंकि उनके पिता राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ से थे (आरएसएस) और वो खुद अखिल भारतीय विध्यार्थी परिषद से जुड़ीं थी इसलिए उनका बाद का सफर भारतीय जनता पार्टी से शुरू हुआ।

Video : सुषमा के लिए विदेशी महिला का गाना ‘Ichak Dana Bichak Dana’

उनका तीसरा रेकॉर्ड रहा कि वह देश कि ऐसी पहली विदेश मंत्री बनीं, जिन्होंने सरकार आने के बाद बतौर विदेश मंत्री पूरे 5 सालों का कार्यकाल पूरा किया। इसके बाद सुषमा दी कि जिम्मेदारियाँ बढ़ीं (Top 10 records of Sushma Swaraj) और भारतीय जनता पार्टी का उन्हे राष्ट्रिय वक्ता नियुक्त किया, और इसी तरह सुषमा स्वराज पहली महिला  वक्ता बनीं। इसका एक कारण उनका गरु-गंभीर स्वभाव भी माना जाता था। 

देखें सुषमा स्वराज के ऐतिहासिक भाषणों के Videos

इस देश कि राजनीति में अगर किसी को नेता प्रतिपक्ष के तौर पर सुनना हो तो आज भी सुषमा दी का पद ऊंचा है। साल 2009 में वो देश कि पहली नेता प्रतिपक्ष बनीं उस वक़्त राज्य सभा में अरुण जैथली नेता प्रतिपक्ष हुआ करते थे । इनकी उपलब्धियों कि बातें जितनी भी करे उतनी कम है । कुछ समय बात सुषमा स्वराज भारत कि (Top 10 records of Sushma Swaraj) राजधानी दिल्ली कि पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं ।सुषमा का एक और खास रिकॉर्ड है, विश्व ऐसी पहली विदेश मंत्री है जिनके ट्विटर पर सबसे ज़्यादा फोल्लेर्स थे, जिनकी गिनती करोड़ में पहुँचती थी। सुषमाजी को बेस्ट पार्लियामेंटरियन अवार्ड (Best Parliamentarian Award) से भी नवाज़ा जा चुका है।  

 

 

 

 

 

Share.