इन चीजों से था अटल बिहारी वाजपेयी को लगाव

0

राजनीति में कुछ ही ऐसी शख्सियतें होती हैं, जिन्हें हर कोई पसंद करता है| अटल बिहारी वाजपेयी उन्हीं शख्सियतों में से एक थे| राजनीति से ताल्लुक़ात रखने के साथ ही अटलजी फिल्म, खेल और लज़ीज खाने के भी शौकीन थे| उनसे जुड़ी बहुत सी ऐसी बातें हैं, जो शायद आपको नहीं पता| तो आइये अटलजी को और भी करीब से जानते हैं कि उन्हें कौन पसंद था, कौन उनके घनिष्ठ मित्र थे, उन्हें क्या खाना पसंद था? चलिए अटलजी को करीब से जानते हैं|

अटलजी के लिए सबसे दुःख की घड़ी उस समय थी, जब उनके पिता की मृत्यु हो गई थी| एलके आडवाणी, भैरोसिंह शेखावत, एनएम घटाटे, जसवंतसिंह, डॉ.मुकुंद मोदी उनके करीबी मित्र थे| अटलजी का जीवन पूरी तरह से मातृभूमि को समर्पित था| उनके जीवन का उद्देश्य भारत को दुनिया के महान देशों की श्रेणी में सबसे आगे खड़ा देखना था|

अटलजी काफी सादे कपड़े पहनना पसंद करते थे| उनकी पसंदीदा पोशाक धोती-कुर्ता थी, लेकिन कभी-कभी पठानी सूट पहनना भी पसंद करते थे| उनके पसंदीदा खाने की बात की जाए तो उन्हें मछली, चायनीज, खिचड़ी, खीर, मोतीचूर के लड्डू और मालपुआ खाना काफी पसंद था| उन्हें ग्वालियर की एक दुकान के मोतीचूर के लड्डू काफी पसंद थे| नीला रंग उन्हें काफी पसंद था|

अटलजी को संगीत से भी काफी लगाव था| उन्हें भीमसेन जोशी, अमजद अली खान का सरोद वादन,  हरिप्रसाद चौरसिया की बांसुरी का संगीत सुनने में उन्हें काफी आनंद आता था| इसके अलावा उन्हें लता मंगेशकर, मुकेश और मोहम्मद रफी की आवाज़ भी बेहद भाती थी|

फिल्में देखना भी उन्हें काफी ज्यादा पसंद था| ‘देवदास’, ‘बंदिनी’ और ‘तीसरी कसम’ उनकी मनपसंद फिल्म थी| हिन्दी फिल्मों के अलावा उन्हें अंग्रेजी फिल्में देखना भी काफी ज्यादा पसंद था| ‘ब्रिज ओवर रिवर क्वाय’, ‘बोर्न फ्री’ और ‘गांधी’ उनकी पसंदीदा अंग्रेजी फिल्म थी| मनाली, अल्मोड़ा और माउंट आबू घूमना  उनकी पसंदीदा जगह थी|लोकप्रिय नेता अटल बिहारी वाजपेयी को सूर्यकांत त्रिपाठी निराला, बालकृष्ण शर्मा नवीन, जगन्नाथ प्रसाद मिलिंद और फैज मोहम्मद फैजी की उर्दू की कविता सुनना पसंद था| इसी के साथ उन्होंने भी कई कविताओं की रचना की|

Atal bihariji death: भारतीय राजनीति का चमकता सूरज अस्त, श्रद्धांजलि का दौर..

Atalji death: मैं जीभर जिया, मैं मन से मरूं…

Atalji death : अटलजी के विचार बदल देंगे जीने का नज़रिया

Video: श्रद्धांजलि देने पहुंचे अग्निवेश की पिटाई

Share.