मिली थी जान से मारने की धमकी

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 15 साल पहले जान से मारने की मिली धमकी पर गुजरात की अदालत अब सुनवाई करेगी। दरअसल, 2002 में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को एक धमकी भरा ई-मेल आया था, जिसमें उन्हें और उनके सहयोगियों विहिप, बजरंग दल एवं आरएसएस को फरवरी 2003 के अंत तक मारने की धमकी दी थी। धमकी में भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी और विश्व हिन्दू परिषद् के नेता प्रवीण तोगड़िया को भी मारने के बारे में कहा गया था।

इस मामले में स्थानीय निवासी मोहम्मद रिजवान कादरी आरोपी है। सरकारी अभियोजक प्रतीक भट्ट ने कहा कि न्यायिक मजिस्ट्रेट जेएल परमार ने शिकायतकर्ता से जिरह के साथ मामले में सुनवाई शुरू कर दी है। उन्होंने कहा कि अगली सुनवाई 27 जून को होगी।

कादरी के ई-मेल का पता लगाने के बाद 25 फरवरी, 2003 को आईपीसी की धारा 507 और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 67 के तहत उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी। इसके बाद कादरी ने कोर्ट में याचिका दायर की थी, लेकिन 2007 में मजिस्ट्रेट की अदालत ने कादरी की याचिका खारिज कर दी थी।

Share.