सीमा-समुद्र के नक्शे की सटीक जानकारी

0

इसरो को आज एक और सफलता हासिल हुई | गुरुवार अलसुबह 4 बजकर 4 मिनट पर भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र का नेविगेशन सैटेलाइट पीएसएलवी-सी41 श्रीहरिकोटा से प्रक्षेपित हुआ| बड़ी बात यह है कि यह अपनी कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित भी हो गया|

इसरो के अधिकारियों ने बताया कि प्रक्षेपण सामान्य तरीके से हुआ| सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से छोड़े जाने के 19 मिनट बाद कक्षा में अपनी जगह पर स्थापित हो गया| इसके बाद इसरो के अध्यक्ष के सिवन ने वैज्ञानिकों को सफलता के लिए बधाई दी|

इसरो के अध्यक्ष ने कहा कि आईआरएनएसएस-1आई सात नेविगेशन सैटेलाइट में से पहले आईआरएनएसएस-1ए की जगह लेगा| यह करीब 2420 रुपए करोड़ की लगत से बना नेविगेशन सैटेलाइट है, जिससे नक्शा बनाने में मदद मिलेगी|

Share.