website counter widget

रेल होस्टेस का काम सेल्फी कर रही नाकाम

0

देश की पहली कॉरपोरेटेड ट्रेन तेजस एक्सप्रेस (Tejas express) अभी कुछ दिनों पहले ही शुरू हुई है. इसके अंदर की शानदार सुविधाओं के कारण शुरुआत से ही इस ट्रेन को शत-प्रतिशत बुकिंग मिल रही है। नई नवेली ट्रेन , बेहतरीन सुविधाओं , और खूबसूरत रेल होस्टेस (Tejas Express Train Hostess), यात्रियों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई है. लेकिन यात्रियों का ये आकर्षण रेल होस्टेस के लिए परेशानी का सबब बनी हुई है।

पाक की बौखलाहट एक बार फिर आई सामने

उतावले यात्री सेल्फी और तस्वीरें खींचने के लिए रेल होस्टेस (Tejas Express Train Hostess) को घेर लेते हैं। और बिना उनकी अनुमति के मोबाइल कैमरे क्लिक करते हैं उन्हें ना चाहते हुए भी इस हरकत में शामिल होना पड़ता है। क्योंकि उन्हें यात्रियों के स्वागत के लिए रखा गया है। और उनका प्रयास यही रहता है की कोई यात्री नाराज न हो इसलिए वो ना चाहते हुए भी सिमटते सिकुड़ते हुए सेल्फी और तस्वीर खिचाने के लिए मजबूर हो जाती है। और सेल्फी में मन ना होते हुए भी उन्हें अनचाही मुस्कान चेहरे पर रखनी पड़ती है।

पहले भारती से फिर साध्वी से हार, अब दिग्गी राजनीति से बाहर

देश की पहली प्राइवेट ट्रेन (Tejas Express Train) की होस्टेस ड्रेस काले-पीले रंग की बदन से चिपकती चुस्त पोशाक है. जो यात्रियों को और भी अधिक आकर्षित करती है। भारत में ये पहली बार है जब किसी रेल सेवा में हवाई सेवा की तरह होस्टेस तैनात की गई हैं। इसलिए यात्रियों में उनके प्रति जिज्ञासा और आकर्षण नजर आता है। तेजस एक्सप्रेस में तैनात इन होस्टेस का काम यात्रियों के खाने-पीने और अन्य जरूरतों के अलावा सुविधा और सुरक्षा का ध्यान रखना है। तेज रफ्तार से चलती और हिलती डुलती ट्रेन में ये होस्टेस पूरे विश्वास से सर्विस ट्रॉली को थामे हुए काम करती है। अभी तक भारतीय ट्रेनों में ये काम मर्द ही करते रहे थे। अब हाथ में सर्विस ट्रॉली हिलती डुलती ट्रेन में जब यात्री सेल्फी के लिये कहते है तो बहुत उन्हें परेशानी होती है और काम में भी रुकावट आती है।

Bharat Ratna For Godse : सावरकर के साथ नाथुराम गोडसे को भी भारत रत्‍न!

आईआरसीटीसी ने तेजस को रेलवे से लीज पर लिया है और इसका कमर्शियल रन किया जा रहा है। आईआरसीटीसी अधिकारी इसे प्राइवेट के बजाए कॉर्पोरेट ट्रेन कहते हैं। रेल होस्टेस (Tejas Express Train) की शिकायत मिलने के बाद आईआरसीटीसी ने इस पर विचार करने की बात कही है, आपको जानकर यह हैरानी होगी कि फिलहाल आईआरसीटीसी ने इस बात को लेकर कोई भी कड़ा नियम नहीं बनाया है।

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.