1500 करोड़ की मदद, किसी भी कार्पोेरेट द्वारा देश में सबसे बड़ी मदद

0

टाटा ट्रस्ट(Ratan Tata Group) मरीजों और हेल्थ वर्कर्स के लिए 500 करोड़ खर्च करेगा(Ratan Tata PM Care Fund), यह देश के किसी भी कॉर्पोरेट की ओर से कोरोना(Corona Virus PM Care Fund) पर सबसे बड़ी मदद होगी

कोरोनावायरस(Corona Virus In India) के बढ़ते असर को देखते हुए देश के कॉर्पोरेट हाउस(Corporate House India) मदद के लिए लगातार आगे आ रहे हैं। ऐसे में जनता सवाल पूछ रही है कि देश के बड़े उद्योगपतियों ने कोरोना(India Fights Corona) से लड़ने के लिए देश को क्या दिया। आईये आपको हम बताते हैं कि देश में किसने क्या दान किया कोरोना से खिलाफ इस जंग में।
टाटा ट्रस्ट ने कोरोना के खिलाफ लड़ने में 500 करोड़ रुपए खर्च करने का ऐलान किया। ट्रस्ट के चेयरमैन रतन टाटा(Ratan Tata) ने ट्वीट कर यह जानकारी दी। देश के किसी कॉर्पोरेट की ओर से कोरोना पर यह अब तक की सबसे बड़ी मदद होगी।इसके अलावा टाटा एंड संस द्वारा भी 1000 करोड़ रुपए की मदद का ऐलान किया गया था।

पीएम मोदी पर कविता कौशिक ने साधा निशाना

तुरंत कदम उठाने की जरूरत- रतन टाटा
रतन टाटा(Ratan Tata) का कहना कि कोरोनावायरस का संकट हमारी पीढ़ी की सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है। टाटा ग्रुप और समूह की कंपनियां पहले भी देश की जरूरत के वक्त आगे रही हैं। लेकिन, इस समय सबसे बड़ी जरूरत है। मौजूदा हालात में देश और दुनियाभर में तुरंत कदम उठाए जाने चाहिए।

1. कोरोना का इलाज करने और संक्रमण रोकने में जुटे मेडिकल स्टाफ के निजी सुरक्षा उपकरणों के लिए।
2. कोरोना पीड़ित मरीजों को रेस्पायरेटरी सिस्टम उपलब्ध करवाने के लिए।
3. टेस्टिंग किट(Corona Virus Testing Kit) के लिए ताकि, ज्यादा से ज्यादा लोगों की स्क्रीनिंग हो सके।
4. संक्रमित मरीजों के लिए बेहतर सुविधाएं तैयार करने में।
5. हेल्थ वर्कर(Health Workers) और आम जनता को प्रशिक्षित और जागरुक करने के लिए।

वहीं अब आपको यह भी बता देते हैं कि देश के दूसरे कॉर्पोरेट ने कोरोना से लड़ाई में अब तक क्या किया?

मुकेश अंबानी, चेयरमैन (रिलायंस इंडस्ट्रीज)(Mukesh Ambani Chairman Reliance Industries)
महाराष्ट्र मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 करोड़(5 Crores) रुपए दिए। रिलायंस फाउंडेशन(Reliance Foundation) ने बीएमसी के साथ मिलकर मुंबई के सेवन हिल्स हॉस्पिटल(Seven Hills Hospital) में कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए 100 बेड का सेंटर बनाया है। महाराष्ट्र के लोधीवाली में आइसोलेशन सेंटर(Maharashtra Isolation Centre) भी बनाया है।

अनिल अग्रवाल, चेयरमैन (वेदांता रिसोर्सेज)(Anil Agrawal Chairman Vedanta Resources)
कोरोनावायरस(Corona Virus Relief Fund) से लड़ने के लिए 100 करोड़(100 Crore) रुपए की मदद का ऐलान किया है।

पलायन करने वाले लाखों लोगों की समस्या क्या दूर करेगी सरकार

आनंद महिंद्रा, चेयरमैन (महिंद्रा ग्रुप)(Anand Mahindra Chairman Mahindra Group)
उनकी कंपनी अपनी यूनिट्स में वेंटिलेटर(Ventilator) बनाएगी, ताकि देश में वेंटीलेटर कम न पड़ें। महिंद्रा ने अपनी अपनी हॉलीडे कंपनी क्लब महिंद्रा(Holiday Company Club Mahindra) को भी मरीजों की देखभाल के लिए खोलने का प्रस्ताव दिया है। महिंद्रा अपनी 100 प्रतिशत सैलरी कोविड-19(100% Salary To COVID-19 Fund) फंड में देंगे। यह फंड छोटी इंडस्ट्री और डेली वेजेज पर काम करने वाले लोगों की मदद के लिए बनाया गया है।

पंकज एम मुंजाल चेयरमैन (हीरो साइकल्स)(Pankaj Munjal Hero Cycles) 
कोरोनावायरस से निपटने के लिए कंपनी के इमरजेंसी फंड में से 100 करोड़(100 Crore Emergency Fund) रुपए देने की घोषणा।

बजाज ग्रुप(Bajaj Group)
हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर(Health Infrastructure) बेहतर करने, खाने और रहने के इंतजाम करने के लिए 100 करोड़ रुपए देने का ऐलान किया है।

विजय शेखर शर्मा, फाउंडर-सीईओ (पेटीएम)(Vijay Shekhar Sharma Founder CEO Pay TM)
उनकी कंपनी वेंटिलेटर और दूसरे जरूरी सामान बनाने वालों को 5 करोड़ रुपए की मदद करेगी।

पारले(Parle)
कंपनी अगले तीन हफ्ते में बिस्किट के 3 करोड़ पैकेट बांटेगी।

बिल गेट्स, को-फाउंडर (माइक्रोसॉफ्ट), अमेरिका(Bill Gates Co Founder Microsoft)
बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन(Bill & Melinda Gates Foundation) ने कोरोना की दवा और टीका(Corona Virus Vaccine) बनाने के लिए 750 करोड़ रुपए दान(Corona Virus PM Care Fund) करने की घोषणा की है। इसके अलावा यह फंड हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर बनाने में भी खर्च होगा।

मार्क जकरबर्ग, फाउंडर (फेसबुक), अमेरिका(Mark Zuckerberg Founder FAcebook)
अमेरिका के बे-एरिया में हर रोज कोरोना वायरस के 1000 टेस्ट करने की व्यवस्था की है। इलाज पर रिसर्च के लिए 187.5 करोड़ रुपए देने का ऐलान भी कर चुके हैं।

क्या चीन ने जानबूझकर दुनिया में फैलाया कोरोना वायरस

जैक मा, फाउंडर (अलीबाबा), चीन(Jack Ma Founder Alibaba)
कोरोनावायरस से निपटने के लिए 100 करोड़ की मदद दी है। इस फंड का इस्तेमाल टीके बनाने में किया जाएगा। इसके अलावा उन्होंने रूस को 10 लाख मास्क के साथ दो लाख कोरोनावायरस टेस्टिंग किट दान की हैं। जैक मा ने 24 लैटिन अमेरिकी देशों को 20 लाख मास्क, 4 लाख टेस्ट किट, 104 वेंटिलेटर दान करने का ऐलान भी किया है।

लेकिन यहां एक सवाल यह भी खड़ा हो रहा है कि कोरोना से लड़ाई में जहां आम वर्ग प्रभावित हो रहा है वहीं देश के सभी अमीर वर्ग कहां है। जिस तरह से महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर ने कोरोना से लड़़ाई में 50 लाख का दान दिया। कई दूसरे गुमनाम दानदाताओं ने भी दान दिए, वहीं कई ऐसे लोग भी थे जो अपने दान के चलते ट्रोल हो गए। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और प्रतिवर्ष 800 करोड़ कमाने वाले धोनी ने केवल 1 लाख रुपए का दान दिया। इसे देखते हुए अब सवाल भी उठ रहा है कि क्या देश में दान(Corona Virus PM Care Fund) के लिए भी ऐसा कोई कानून नहीं होना चाहिए। क्या दान के लिए भी सरकार कोई पाॅलिसी बना सकती है, जिससे बड़े उद्योगों या संपन्न लोगों के लिए भी इसकी अनिवार्यता हो सकती है। कोरोना महामारी ऐसी कई अनिवार्यताओं को लेकर भी हमें आगाह कर रही है।

-Rahul Kumar Tiwari

Share.