website counter widget

राफेल डील पर मोदी को क्लीन चिट से बढ़ी कांग्रेस की मुसीबत

0

मोदी सरकार (Modi government ) द्वारा की गई राफेल डील (Rafael Deal ) के मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने सरकार को क्लीन चिट दे दी है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई (Chief Justice Ranjan Gogoi) की अगुवाई वाली बेंच ने राफेल मामले में दायर की गईं सभी पुनर्विचार याचिकाओं को खारिज कर दिया है। राफेल पर राहत के बाद मोदी सरकार की तो परेशानी कम हो गई है (Rafale Review Petitions), लेकिन इससे कांग्रेस की मुसीबतें बढ़ गई है। भाजपा के नेता अब कांग्रेस से माफी की मांग कर रहे हैं।

भारतीय सेना में पहली महिला न्यायाधीश की हुई नियुक्ति

राफेल मुद्दे पर फैसला सुनाने के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हमें ऐसा नहीं लगता है कि इस मामले में कोई FIR दर्ज होनी चाहिए या फिर किसी तरह की जांच की जानी चाहिए। हम इस बात को नज़रअंदाज नहीं कर सकते हैं कि अभी इस मामले में एक कॉन्ट्रैक्ट चल रहा है। इसके साथ ही सर्वोच्च अदालत ने केंद्र सरकार द्वारा हलफनामे में हुई भूल को स्वीकार किया है। फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिकाओं में कहा गया कि डील में भ्रष्टाचार हुआ है। इस मामले में मोदी सरकार को दोषी ठहराया जाना चाहिए।

शिवसेना की बीजेपी को चेतावनी, कही बड़ी बात

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Former Congress President Rahul Gandhi ) राफेल डील के कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कई बार हमला कर चुके हैं। उन्होंने इस मामले को लेकर पीएम मोदी को ‘चौकीदार चोर है’ तक कह दिया था, जिसे लेकर उन्हें चेतावनी देकर कोर्ट ने माफ किया है। इस मामले पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद का कहना है कि फेल मामले में सच की जीत हुई है। सुप्रीम कोर्ट ने प्राइसिंग, खरीदने की प्रक्रिया को जांचा और उसे सही ठहराया है। कोर्ट के फैसले से पहले देश में प्रायोजित कैंपेन चलाया गया, अदालत से हारे तो लोकसभा चुनाव में प्रमुख मुद्दा बनाया। राहुल गांधी ने तो ये भी कह दिया था कि SC ने नरेंद्र मोदी को चोर कहा है। केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि तब के कांग्रेस अध्यक्ष ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का राजनीतिक उपयोग किया।

Video: एंबुलेंस के इंतजार में लावारिस पड़ा रहा महान गणितज्ञ का शव

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.