website counter widget

शीर्ष अदालत ने स्वीकार की राहुल गांधी की माफी

0

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Former Congress President Rahul Gandhi ) पर दायर किए गए अवमानना मामले में सर्वोच्च अदालत (Supreme court ) ने आज राहुल गांधी की माफी स्वीकार ली है। लोकसभा चुनाव के दौरान जब सुप्रीम कोर्ट की ओर से राफेल विवाद पर फैसला आया था, तब राहुल गांधी ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट ने मान लिया है कि चौकीदार चोर है (Rafale Verdict LIVE)। अब इस मामले पर जस्टिस संजय कौल ने कहा कि राहुल गांधी का बयान दुर्भाग्यपूर्ण था, लेकिन उन्होने माफी मांग ली है। कोर्ट ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi Contempt Case Closed) को चेतावनी दी और कहा कि राजनीतिक बयानबाजी में कोर्ट को न घसीटें। एससी ने राहुल गांधी को भविष्य में और सतर्क रहने को भी कहा।

पुलिस अफसर की शर्मनाक हरकत छात्रा को भेजे अश्लील मैसेज और तस्वीरें!

जानिए सबरीमाला विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में क्या हुआ खास ?

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति के एम जोसेफ की पीठ ने राहुल गांधी के खिलाफ अवमानना कार्यवाही के लिये लंबित इस मामले पर 10 मई को सुनवाई पूरी की थी, जिसके बाद आज इस फैसले को पढ़ा गया है। कोर्ट ने इस मामले पर दायर पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी है।

डीएम ने की बदसलूकी, कॉलर खींचकर की धक्का-मुक्की

सत्यमेव जयते

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आते ही बीजेपी के नेताओं ने कांग्रेस को घेरना शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि राहुल गांधी माफी मांगकर मुकदमे से बच गए है। भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने सुनवाई से पहले कहा था कि गांधी की क्षमा याचना अस्वीकार की जानी चाहिए और उनके खिलाफ कानून के अनुसार कार्रवाई की जानी चाहिए। यह भी दलील दी थी कि न्यायालय को राहुल गांधी को अपनी टिप्पणियों के लिये सार्वजनिक रूप से माफी मांगने के लिये कहना चाहिए। राहुल गांधी ने आठ मई को राफेल फैसले में ‘चौकीदार चोर है’ की टिप्पणी पर बिना शर्त माफी मांग ली थी। राहुल गांधी की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने पीठ से कहा था कि कांग्रेस नेता ने शीर्ष अदालत के मुंह में गलत तरीके से यह टिप्पणी डालने के लिये खेद व्यक्त कर दिया है।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.