निर्भया गैंगरेप : पवन की याचिका सुप्रीम कोर्ट ने की खारिज

0

निर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Case Delhi) मामले में चारों दोषियों को तीसरी बार डेथ वारंट जारी हो चुका है। चारों दोषी फांसी (Nirbhaya Case Plea Dismissed) से बचने के लिए हर बार ही कोई न कोई दांव खेलते हैं इस बार भी ऐसा ही कुछ हुआ। दरअसल डेथ वारंट (Nirbhaya Convicts Death Warrant) के मुताबिक़ चारों आरोपियों को 3 मार्च यानी कल सुबह 6 बजे फांसी दी जानी है लेकिन इससे पहले ही शुक्रवार यानी कि 28 फ़रवरी को एक आरोपी पवन गुप्ता (Pawan Gupta) ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के समक्ष क्यूरेटिव पीटिशन दायर की थी। इस क्यूरेटिव पीटिशन (Curative petition nirbhaya) पर आज एक बंद कमरे में सुनवाई हुई। ये सुनवाई पांच जचों की पीठ ने की। इस पीठ में जस्टिस एन वी रमण (Justice NV Raman), जस्टिस अरुण मिश्रा (Justice Arun Mishra), जस्टिस आर एफ नरीमन (Justice RF Nariman), जस्टिस आर भानुमति (Justice R Bhanumathi) और जस्टिस अशोक भूषण (Justice Ashok Bhushan) शामिल थे। पांच जजों की बैंच द्वारा की गई इस सुनवाई में पवन गुप्ता (Pawan Gupta) की क्यूरेटिव पीटिशन को खारिज कर दिया गया। बता दें कि इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) ने चारों दोषियों के खिलाफ तीसरी बार 3 मार्च के लिए डेथ वारंट जारी किया था। डेथ वारंट जारी किए जाने के बाद निर्भया की मां आशा देवी (Nirbhaya’s Mother Asha Devi) ने भावुक बयान दिया था।

Nirbhaya Case: दोषी विनय शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की क्यूरेटिव पिटीशन

पवन गुप्ता (Pawan Gupta) की क्यूरेटिव पीटिशन को खारिज कर दिया गया है। (Nirbhaya Case Plea Dismissed) वहीं आज पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) भी सुनवाई की जानी है। पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) में सुनवाई को लेकर निर्भया की मां ने बयान दिया है। निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि, आज पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) में भी सुनवाई है और हम उम्मीद करते है की आज एक बार फिर से डेथ वारंट खारिज न हो चारों दोषियों को फांसी हो जाए। इसके अलावा उन्होंने कहा कि हमें समझ नहीं आता की सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) अपने फैसले पर अमल क्यों नहीं कर रहा है। आशा देवी ने कहा, “मैं पूछना चाहती हूं कि हमारी क्या गलती है? आखिर हमारी बेटी की क्या गलती थी?” निर्भया की मां आशा देवी ने सरकार से भी अपील की है कि अब बिना किसी देर के चारों दोषियों को फांसी दे दी जाए।

Nirbhaya Case: पवन जल्लाद ने कहा निर्भया के दोषियों को चौराहे पर होनी चाहिए फांसी

बता दें कि पवन गुप्ता (Pawan Gupta) ने गैंगरेप के समय खुद को नाबालिग होने का दावा करते हुए अपनी फांसी को उम्रकैद में बदलने का अनुरोध किया है। इसके लिए पवन ने अपने वकील एपी सिंह (AP Singh) के जरिए क्यूरेटिव याचिका (Nirbhaya Case Plea Dismissed) दाखिल कर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के फैसले को खारिज किए जाने की मांग की है। गौरतलब है कि साल 2012 में 16 दिसंबर को राजधानी दिल्ली में एक चलती बस में निर्भया के साथ सामूहिक दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया गया था। इसके बाद दोषियों ने उसके साथ बर्बरता की और उसे चलती बस से फेंक दिया था। छात्रा की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। इसके बाद दोषियों को हिरासत में लिया गया और मुक़दमे में दोषियों के खिलाफ दो बार डेथ वारंट जारी किया। दोषियों ने कानूनी दांव पेच चल दो बार डेथ वारंट खारिज करवा दिया। अब इस मामले में तीसरी बार डेथ वारंट (Death warrant) जारी किया गया है। दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House Court) ने बीती 17 फ़रवरी को चारों दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी किया था। पवन गुप्ता (Pawan Gupta) के अलावा अक्षय सिंह ने भी राजधानी दिल्ली की निचली अदालत में याचिका दायर कर डेथ वारंट को खारिज किए जाने की मांग की है। इस मामले में निचली अदालत ने तिहाड़ जेल प्रशासन (Tihar Jail Administration) को नोटिश जारी कर सोमवार तक जवाब दाखिल करने का निर्देश जारी किया था। दोषी अक्षय का कहना है कि उसने राष्ट्रपति के समक्ष नई दया याचिका दाखिल की है जो अभी तक लंबित पड़ी हुई है।

Nirbhaya Convicts Death Warrant Petition : निर्भया को दोषियों को फांसी नहीं!

Prabhat Jain

Share.