website counter widget

आखिर क्यों बीजेपी ने छीनी गांधी परिवार की विशेष सुरक्षा ?

0

केंद्र सरकार (central government ) ने गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा (Gandhi Family SPG Security)  हटाने का फैसला किया है। इस बात के सामने आने के बाद से देशभर में हंगामा शुरू हो गया है। सरकार के उच्‍च पदस्‍थ सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय की बैठक में यह फैसला लिया गया है कि गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा (SPG Security) हटाकर उन्हें सीआरपीएफ कमांडो की जेड प्‍लस सुरक्षा दी जाएगी। अब गांधी परिवार में सोनिया गांधी (Sonia Gandhi), राहुल गांधी (Rahul Gandhi ) और प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra ) को जेड प्‍लस सुरक्षा (Z plus security) ही दी जाएगी।

महाराष्ट्र में सत्ता की शह और मात, अब गडकरी के हाथ

भारत में सुरक्षा की श्रेणी खतरे के स्तर के साथ एक स्टेटस सिंबल भी माना जाता है। अभी तक एसपीजी की सुरक्षा (SPG Security ) केवल चार लोगों के पास थी। इसमें चार लोगों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) , कांग्रेस की अन्तरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Congress interim president Sonia Gandhi) , राहुल गांधी और प्रियंका गांधी शामिल थे, लेकिन आज के इस फैसले के बाद ये सुरक्षा (Gandhi Family SPG Security) केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास ही रहेगी। कहा जा रहा है कि केंद्र सरकार ने सभी एजेंसियों की ओर से मिले थ्रेट इनपुट (Threat Input) का आकलन करने के बाद यह फैसला लिया। इनपुट के अध्‍ययन से यह बात सामने आई कि गांधी परिवार को किसी से खतरा नहीं है। इसके पहले अगस्‍त में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की एसपीजी सुरक्षा भी हटा ली गई थी।

जाने झारखण्ड विधानसभा चुनाव में कौन कितनी सीटों पर लड़ेगा चुनाव

क्या होती है SPG सुरक्षा ?

यह सुरक्षा का सबसे ऊंचा स्तर होता है। इसमें तैनात कमांडो के पास अत्याधुनिक हथियार और संचार उपकरण होते हैं। इसके बाद आती है  जेड प्लस सुरक्षा कि श्रेणी, जिसमें विशिष्ट व्यक्ति की सुरक्षा में 36 जवान लगे होते हैं। इसमें 10 से ज्यादा एनएसजी कमांडो के साथ दिल्ली पुलिस, आईटीबीपी या सीआरपीएफ के कमांडो और राज्य के पुलिसकर्मी शामिल होते हैं। इसके बाद आती है जेड श्रेणी की सुरक्षा, जिसमें चार से पांच एनएसजी कमांडो सहित कुल 22 सुरक्षागार्ड तैनात होते हैं। जेड श्रेणी की सुरक्षा के बाद आती है वाई श्रेणी की सुरक्षा, जिसे सुरक्षा का तीसरा स्तर माना जाता है। इसमें कुल 11 सुरक्षाकर्मी शामिल होते हैं। जिसमें दो पीएसओ (निजी सुरक्षागार्ड) भी होते हैं। इसके बाद एक्स श्रेणी की सुरक्षा में दो सुरक्षा गार्ड तैनात होते हैं। जिसमें एक पीएसओ (व्यक्तिगत सुरक्षा अधिकारी) होता है। देश के कई लोगों को यह सुरक्षा दी गई है।

हाउसमेड का विजटिंग कार्ड हुआ वायरल, देशभर से मिल रहे ऑफर

     – Ranjita Pathare 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.