website counter widget

एसपीजी सुरक्षा ही क्यों चाहता है गांधी परिवार ?

0

गांधी परिवार के हटाई है एसपीजी सुरक्षा (Gandhi Family SPG Security)  के बाद से ही बवाल मचा हुआ है। अब यह बवाल संसद मे  भी हो रहा है। संसद में गांधी परिवार (Gandhi Family) के बलिदान को याद करके कांग्रेसी मोदी सरकार (Modi government) के फैसले का विरोध कर रहे हैं तो वहीं गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) का कहना है कि गांधी परिवार को एसपीजी सुरक्षा कि जरूरत ही नहीं है।

मोदी का साथ छोड़ कांग्रेस के साथ आई सुमित्रा ताई!

संसद मे गरजे शाह

संसद में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) ने कहा कि मैं साफ करना चाहता हूं कि गांधी परिवार को ध्यान में रखते हुए बिल नहीं लाया गया। बिल से गांधी परिवार का कोई संबंध नहीं है। मैं जरूर कहना चाहता हूं पिछले परिवर्तन एक परिवार को ध्यान में रखते हुए किए गए थे। अशोक सिंघल (Ashok Singhal) को एसपीजी नहीं मिली थी। एक दौर में उनको भी खतरा था। पीएम स्टेट ऑफ हेड होता है इसलिए उनके लिए ये सुरक्षा जरूरी है। जहां तक धमकी का सवाल क्यों सिर्फ गांधी परिवार। सबको सुरक्षा मिले। 130 करोड़ लोगों की जिम्मेदारी सरकार की है। एसपीजी सुरक्षा ( SPG Security)  की जिद मुझे समझ नहीं आती।  हम समानता में मानते हैं। इस देश में सिर्फ गांधी परिवार की सुरक्षा नहीं है। पूर्व पीएम चंद्रशेखर की सुरक्षा हटा ली गई। वीपी सिंह की सुरक्षा हटा ली गई थी। कांग्रेस के ही नरसिंहा रॉव की सुरक्षा हटा ली गई।  मनमोहन सिंह की सुरक्षा जेड प्लस की गई। तब कांग्रेस ने कोई हाएतौबा नहीं मचाया।  हम परिवार का विरोध नहीं करते।  परिवारवाद का विरोध करते हैं।  जब तक हमारे सीने में दम है परिवार को विरोध करते रहेंगे।

निर्भया के दोषियों को जल्द हो सकती है फांसी, लेकिन…

फैलाई जा रही है भ्रांतियां

सदन में गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah statement) ने आगे कहा कि सबसे पहले इस बिल को लेकर के जो भ्रांतियां हैं वह मैं दूर करना चाहता हूं दो सदस्यों ने जो कहा कि इस बिल को दो परिवारों को ध्यान में रखकर के लाया गया यह हकीकत नहीं है। मैं थोड़ी और स्पष्टता से कहूं तो कहने का यह आशय था, कि गांधी परिवार के तीन सदस्यों को ध्यान में रखकर यह बिल लाया गया यह ठीक नहीं है। जो पुराना कानून था उस आधार पर गांधी परिवार की सेक्युरिटी असेस्मेंट के आधार पर उनकी एसपीजी सुरक्षा हटा ली गई है। इसके लिए उनको दूसरी सुरक्षा दी गई है।

मंदसौर में पड़ोसी की हैवानियत का शिकार नाबालिग

           – Ranjita Pathare 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.