website counter widget

शिवसेना की बीजेपी को चेतावनी, कही बड़ी बात

0

महाराष्ट्र (Maharashtra ) की सियासत का ऊंट किस करवट बैठ रहा है यह अभी तक साफ नहीं हो पाया है, लेकिन सभी राजनीतिक दलों के बीच सत्ता के लिए दंगल अभी भी जारी है। अब शिवसेना (Shiv Sena) ने फिर से बीजेपी (BJP) के भड़ास निकाली है और राज्य की स्थिति के लिए जिम्मेदार ठहराया है। उनका कहना है कि राष्ट्रपति शासन (President’s Rule ) की पटकथा पहले ही लिख ली गई थी और कोई अदृश्य शक्ति इसका संचालन कर रही थी।

Video: एंबुलेंस के इंतजार में लावारिस पड़ा रहा महान गणितज्ञ का शव

बीजेपी और राज्यपाल पर बरसी शिवसेना

शिवसेना (Shiv Sena ) ने अपने मुखपत्र सामना के माध्यम से राष्ट्रपति शासन लगाने के मामले पर बीजेपी और राज्यपाल पर भगत सिंह कोश्यारी (Governor Bhagat Singh Koshyari ) पर तंज़ कसा है। शिवसेना ने लिखा कि राष्ट्रपति शासन के जरिए सत्ता को संघ परिवार यानी की बीजेपी के हाथो में रखा गया है। राज्य में राष्ट्रपति शासन का सिलबट्टा घुमा दिया गया है और इस पर कोई घड़ियाली आंसू बहाए तो उसे एक ‘स्वांग’ के रूप में देखा जाना चाहिए। मुख्यमंत्री श्री फडणवीस राष्ट्रपति शासन को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए व्यथित हैं। मुख्यमंत्री ने चिंता व्यक्त की है कि राजनीतिक अस्थिरता के कारण महाराष्ट्र में होने वाले निवेश पर विपरीत परिणाम होगा। ये उनका मिथ्या विलाप है। महाराष्ट्र पर जो राष्ट्रपति शासन का सिलबट्टा घुमाया गया है उसकी पटकथा पहले से ही लिखी जा चुकी थी। राष्ट्रपति शासन लगने से महाराष्ट्र की सत्ता परिवार में ही रह गई। इसलिए अस्ताचल सरकार के लोग खुश हैं ये उनके आनंदयुक्त चेहरे को देखकर साफ दिखता है।

पुलिस अफसर की शर्मनाक हरकत छात्रा को भेजे अश्लील मैसेज और तस्वीरें!

सामना में आगे लिखा कि जो शिवसेना के साथ हुआ वही राष्ट्रवादी कांग्रेस के साथ भी हुआ। लेकिन थोड़ी मोहलत बढ़ाने और रात ‘साढ़े 8’ की बात तो छोड़िए दोपहर में ही राज्यपाल ने राष्ट्रपति शासन की सिफारिश कर डाली। कम-से-कम आपने जो समय दिया था तब तक तो रुक जाते लेकिन मानो कोई ‘अदृश्य शक्ति’ इस खेल को नियंत्रित कर रही थी और उसके आदेशानुसार ही सारे निर्णय लिए जा रहे थे। हम सुलगते अंगारों पर चलनेवाले लोग हैं। ये अंगारे बुझे हुए कोयले नहीं हैं। अंगारों से मत खेलो, लेकिन कोयला समझकर अंगारों को हाथ में लोगे तो जलोगे ही और मुंह भी काला कर लोगे।

शीर्ष अदालत ने स्वीकार की राहुल गांधी की माफी

      – Ranjita Pathare 

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.