एनडीए से नाता तोड़ शिवसेना ने थामा एनसीपी-कांग्रेस का हाथ!

0

महाराष्ट्र (Maharashtra) में भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party ) ने यह साफ तौर पर कह दिया है कि वह सरकार बनाने में असमर्थ है, जिसके बाद से ही अब शिवसेना (Shiv Sena) के साथ कांग्रेस (Congress ) और एनसीपी (NCP) के गठबंधन को लेकर चर्चा तेज हो गई है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Shiv Sena chief Uddhav Thackeray ) और एनसीपी प्रमुख शरद पवार (NCP chief Sharad Pawar ) मुलाक़ात करने वाले हैं। वहीं नई सरकार बनाने को लेकर शिवसेना ने एनसीपी की सारी शर्ते भी मान ली है और इसके साथ ही शिवसेना बीजेपी के साथ अपनी वर्षों की मित्रता भुलाकर एनडीए से नाता तोड़ने को भी तैयार हो गई है। राज्यपाल की ओर से जैसे ही शिवसेना को सरकार बनाने के लिए पूछा गया तभी से सूबे की राजनीति में हलचलें तेज हो गई है।

हरियाणा मंत्रिमंडल विस्तार के लिए तय हुए नाम

शिवसेना के मंत्री देंगे केन्द्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा

एनसीपी से समर्थन के लिए शिवसेना को केंद्रीय मंत्री मण्डल से इस्तीफा देना होगा। केंद्र सरकार में शिवसेना के मंत्री अरविंद सावंत (Shiv Sena Minister Arvind Sawant )अपने पद से इस्तीफा देने को तैयार हैं। अरविंद सावंत का कहना है कि लोकसभा चुनाव से पहले सरकार गठन को लेकर एक फॉर्मूला तय हुआ था, लेकिन अब इस फॉर्मूले को मना किया जा रहा है। शिवसेवा (Shiv Sena) हमेशा सच के साथ खड़ी होती है। ऐसे में इस गलत माहौल में दिल्ली सरकार के साथ क्यों रहना? इसलिए मैं केंद्रीय मंत्री के पद से इस्तीफा दे रहा हूं। वहीं सरकार बनाने के लिए उसे केवल एनसीपी ही नहीं बल्कि कांग्रेस के साथ की भी जरूरत होती तभी 145 का जादूई बहुमत का आंकड़ा मिल पाएगा।

ठाकरे बनेंगे महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री!

सीएम तो शिवसेना का ही होगा: संजय राउत

शिवसेना नेता संजय राउत पिछले कई दिनों से बीजेपी पर लगातार तंज़ कस रहे हैं ऐसे ही उन्होने फिर से एक ट्वीट किया और कहा कि रास्ते की परवाह करूंगा तो मंजिल बुरा मान जाएगी। उनके इस ट्वीट को यह माना जा रहा है कि शिवसेना का जो लक्ष्य है वह मुख्यमंत्री पद है और उसके लिए वह नए रास्ते को चुनने के लिए तैयार हैं। इसके पहले भी संजय राऊत ने कहा था कि भाजपा ना सरकार बनाने की हालत में है, ना वह सेना के साथ 2.5 साल का फॉर्मूला अपना रही है। ये किस तरह की राजनीति है? अगर उद्धव ठाकरे ने कह दिया है कि शिवसेना का ही सीएम होगा तो मतलब सीएम शिवसेना का होगा।

वहीं शिवसेना के साथ गठबंधन को लेकर कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे का कहना है कि अभी हमारी पोजिशन यही है कि हम विपक्ष में बैठेंगे, लेकिन हम आगे की रणनीति पर फैसला हाईकमान के निर्देश के बाद लेंगे।

महाराष्ट्र में जीतकर भी हार गई बीजेपी

  – Ranjita Pathare 

 

Share.