Shiv Sena : बीजेपी करती है धौंस, दहशत और सत्ता की मस्ती

0

महाराष्ट्र में हुए विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Elections 2019) परिणाम के सामने आने के बाद भी राजनीतिक दंगल मचा हुआ है। भाजपा और सहयोगी पार्टी ही आपस में भिड़ी हुई है। जब से आंकड़े सामने आए हैं तब से शिवसेना बीजेपी (Bharatiya Janata Party) पर लगातार कटाक्ष कर रही है। अब फिर शिवसेना (Shiv Sena) ने अपने मुखपत्र सामना में भाजपा की आलोचना की है।

मध्यप्रदेश के एक अस्पताल में होता है ‘हुक्‍के’ से इलाज

अति नहीं, उन्माद नहीं वर्ना समाप्त हो जाओगे

शिवसेना ने अपने मुखपत्र में कहा है कि महाराष्ट्र (Maharashtra) की जनता का रुझान सीधा और साफ है।  अति नहीं, उन्माद नहीं वर्ना समाप्त हो जाओगे, ऐसा जनादेश ‘ईवीएम’ की मशीन से बाहर आया. ‘ईवीएम’ से सिर्फ कमल ही बाहर आएंगे, ऐसा आत्मविश्वास मुख्यमंत्री फडणवीस को आखिरी क्षण तक था लेकिन 164 में से 63 सीटों पर कमल नहीं खिला। पूरे महाराष्ट्र के नतीजों को देखें तो शिवसेना-भाजपा युति को सरकार बनाने लायक बहुमत मिल चुका है (Shiv Sena)। उन्होने आगे कहा कि आंकड़ों का खेल संसदीय लोकतंत्र में चलता रहता है। ‘युति’ का आंकड़ा स्पष्ट बहुमत का है। शिवसेना और भाजपा को एक साथ करीब 160 का आंकड़ा आया है। महाराष्ट्र की जनता ने निश्चित करके ही ये नतीजे दिए हैं।  फिर इसे महाजनादेश कहो, या कुछ और यह जनादेश है महाजनादेश नहीं, इसे स्वीकार करना पड़ेगा।

इंदौर के नेता संभालेंगे हरियाणा में सरकार बनाने की कमान

शिवसेना ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए आगे कहा कि महाराष्ट्र में 2014 की अपेक्षा कुछ अलग नतीजे आए हैं। 2014 में ‘युति’ नहीं थी. 2019 में ‘युति’ के बावजूद सीटें कम हुईं। बहुमत मिला लेकिन कांग्रेस-एनसीपी मिलकर 100 सीटों तक पहुंच गई। एक मजबूत विरोधी पक्ष के रूप में मतदाताओं ने उन्हें एक जिम्मेदारी सौंपी है (Shiv Sena)। ये एक प्रकार से सत्ताधीशों को मिला सबक है। धौंस, दहशत और सत्ता की मस्ती से प्रभावित न होते हुए जनता ने जो मतदान किया, उसके लिए उसका अभिनंदन! महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा छलांग राष्ट्रवादी ने लगाई है और 50 का आंकड़ा पार कर लिया है। भाजपा 122 से 102 पर आ गई है।

बैंक लॉकर से मिला काली कमाई का अंबार: Honey trap case

          – Ranjita Pathare 

Share.