CJI Ranjan Gogoi : यौन उत्पीड़न मामले में मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई को क्लीन चिट

0

यौन उत्पीड़न के मामले में फंसे शीर्ष न्यायालय के न्यायधीश रंजन गोगई ( CJI Ranjan Gogoi) को आज क्लीन चिट मिल गई है। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court of India)  के दूसरे वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने इस मांमले पर सुनवाई की। सुनवाई के दौरान कहा गया कि रंजन गोगोई पर यौन उत्पीड़न के आरोपों में कोई दम नहीं है। दरअसल, उच्चतम न्यायालय की एक पूर्व महिला कर्मचारी ने प्रधान न्यायाधीश गोगई पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। मामले की जांच करने वाली आंतरिक समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि सुप्रीम कोर्ट की बर्खास्त कर्मचारी के आरोपों में उसे किसी तरह की वास्तविकता नहीं मिली है।

पुलिस का मुखबिर होने की शक में एक और व्‍यक्ति की हत्‍या

मुख्य न्यायधीश को क्लीन चिट

उच्चतम न्यायालय के सेक्रेटरी जनरल के कार्यालय को फैसले के बाद नोटिस भी भेजा गया है। नोटिस में कहा गया है कि आंतरिक जांच समिति ने आंतरिक प्रक्रिया के अनुरूप पांच मई, 2019 को न्यायमूर्ति बोबडे के बाद के वरिष्ठ न्यायाधीश को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। इस रिपोर्ट की एक कॉपी संबंधित न्यायाधीश, प्रधान न्यायाधीश को भी भेजी गई है। सुप्रीम कोर्ट के महासचिव ने एक बयान में कहा है कि रिपोर्ट वरिष्ठ न्यायाधीश के साथ-साथ भारत के मुख्य न्यायाधीश को सौंपी गई है। इन-हाउस कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट की पूर्व कर्मचारी द्वारा लगाए गए आरोपों में कोई दम नजर नहीं आया। पैनल द्वारा दायर रिपोर्ट को सार्वजनिक नहीं किया जाएगा।

बेसहारा सुखाग्रस्त पीडितों पर पुलिस ने बरसाए डंडे, मासूम की मौत

आंतरिक जांच समिति ने खोली पोल

इस मामले की जांच के लिए आंतरिक जांच समिति का गठन किया गया था। समिति में दो महिला न्यायाधीशों-न्यायमूर्ति इन्दु मल्होत्रा और न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी को भी शामिल किया गया था ताकि किसी प्रकार का कोई अन्याय न हो। आरोप लगाने वाली महिला ने जांच समिति के सामने पेश होने से मना कर दिया था। उसने कहा था कि गंभीर चिंता और आपत्तियों की वजह से मैं आंतरिक समिति की इन कार्यवाहियों में अब भाग नहीं ले रही हूं। आरोपों पर चीफ जस्टिस ने कहा था कि अगर ऐसे निराधार आरोप लगेंगे तो कोई बुद्धिमान व्यक्ति जज बनने के लिए आगे नहीं आएगा।

पूर्व कांग्रेस विधायक और वर्तमान विधायक भिड़े

Share.