सनकी डॉक्टर महिलाओं को इलाज के बहाने बुलाता फिर कर देता था मर्डर

0

डॉक्टरों (Serial Killer Doctor Of India) को लोग ईश्वर (God)  का अवतार मानते हैं लेकिन कई बार ऐसी घटनाएं सामने आती हैं कि लोग सिहर उठें और नजरिया बदलने को मजबूर हो जाएं जी हां महाराष्ट्र (Maharashtra)  के सतारा का रहने वाला एक डॉक्टर का ऐसा कारनामा सामने आया है जिसे सुनकर आप के पैरों तले जमीन खिसक जाएगी। यह मामला उस वक्त खुला जब एक आंगनबाड़ी में काम करने वाली महिला अचानक गायब हो गई। परिवार की शिकायत के बाद से पुलिस (Police)  ने गुमशुदा की रिपोर्ट दर्ज कर वर्कर की तलाश की तो वर्कर की लाश संतोष पाल (Doctor Santosh Pal) नामक डॉक्टर  के आंगन में गड़ी मिली।

Doctor Rajeev Gupta murder case : जिसे नौकरी से निकाला उसी ने रची हत्या की ख़ौफ़नाक साज़िश

Serial Killer Doctor Of India | Latest Horror News In Hindi पुलिस को इस दरिंदे डॉक्टर (Serial Killer Doctor Of India) ने बताया कि उसने 22 लोगों को मारा है हालांकि जुर्म केवल 6 हत्या का ही साबित हो पाया। पहले तो संतोष पाल ने पुलिस को कुछ भी बताने से इनकार किया लेकिन बाद में सारी सच्चाई सामने आयी। संतोष पाल (Doctor Santosh Pal) ने बताया कि उसका यह पहला मामला नहीं था उसने कईयों को मौत की नींद सुला दिया है। पुलिस की आगे जाँच में पता चला कि डॉक्टर संतोष पाल (Santosh Pal) इलेक्ट्रोहोम्योपैथिक (Electrohomopathic) डिग्री लिया हुआ है। लेकिन वह अपने आपको एमबीबीएस बताता था।

पुलिस को उसके बारे में कई अहम जानकारियां हाथ लगी। झोलाछाप डॉक्टर (Serial Killer Doctor Of India) कई बड़े अस्पतालों में ऑपरेशन थिएटर (operation theatre)  में काम कर चुका था और वहीं से उसे सर्जरी के दौरान काम आने वाले सारी दवाइयों के बारे में अच्छी तरह से जानकारी थी।

Doctors Strike In India Updates : देशभर में डॉक्टरों की हड़ताल में उठी ये 6 मांग

Serial Killer Doctor Of India | Latest Horror News In Hindi

संतोष (Serial Killer Doctor Of India) इलाज के लिए आए मरीजों में से ऐसी महिला मरीजों को छांटता था, जो बेसहारा या सामाजिक तौर पर अकेली होती थीं. इलाज की शुरुआत में उनका यकीन जीतता और फिर एक दिन इलाज के दौरान एक एक इंजेक्शन दे देता था. इस इंजेक्शन में सक्सिनीकोलिन (succinylcholine) द्रव्य होता था. ये एक तरह का न्यूरो मस्कुलर पैरालिटिक ड्रग है जो मांसपेशियों को निष्क्रिय कर देता है. ये इतनी तेजी से असर करता है कि सारी मांसपेशियां काम करना बंद कर देती हैं और मरीज की हार्ट अटैक (Heart attack) से मौत हो सकती है. इस द्रव्य को डॉक्टर एनेस्थीसिया (Anaesthesia) की तरह इस्तेमाल करते हैं लेकिन इसके साथ ही मरीज को वेंटिलेटर पर रखा जाता है ताकि सांस चलती रहे. झोलाछाप डॉक्टर (Serial Killer Doctor Of India) और उसकी प्रेमिका नर्स ये बात जानते थे और इसी तकनीक का इस्तेमाल मारने के लिए करते थे.  उसके बाद आसानी से हत्या कर लाश को ठिकाने लगा देता था और उसके ऊपर नारियल का पेड़ लगाता था। जिससे किसी को शक ना हो। हालांकि जांच में ये समाने नहीं आ सका कि सनकी डॉक्टर महिला मरीजों को मारता क्यों था.

पहली बार जून 2016 में एक गुमशुदा महिला के परिवार की शिकायत के बाद पुलिस फर्जी डॉक्टर (Serial Killer Doctor Of India) के के फार्म हाउस पहुंची हर तरफ खोजने के बाद पुलिस खाली हाथ लौटी रही थी कि कुत्तों ने आंगन में लगे एक नारियल के पेड़ के नीचे भोंकने लगे। नारियल के पेड़ को जेसीबी की मदद से हटवाया तो वहां गुमशुदा महिला मंगला देदे की लाश बरामद हुई।

पुलिस ने तत्काल डॉक्टर (Serial Killer Doctor Of India) को गिरफ्तार कर लिया झोलाछाप डॉक्टर ने कई चौकाने वाले खुलासे किए। कबूला किया की उसने कई मरीजों की हत्याएं की हैं और सबसे हैरानी वाली बात यह रही कि सारी मरीज महिलाएं थी। संतोष पाल (Santosh Pal) बहुत ही चालांक था वह लाश के सड़ने के बाद फैलने वाली बदबू को रोकने के लिए उसने अपने फॉर्म हाउस में मुर्गी फार्म खोल रखा था वह जानता था कि मुर्गियों की तेज बदबू की वजह से सड़ती लाश की गंध पता नहीं चल पाएगी और वह अपने इस दरिंदगी भरे काम को जारी रखेगा।

Junior Doctors Strike : बंगाल बवाल के बाद पूरे देश में डॉक्टरों की हड़ताल

-Mradul tripathi

 

Share.