प्रधानमंत्री मोदी 15 अगस्त को कश्मीर में फहराएंगे तिरंगा

0

गृहमंत्री अमित शाह ने आज संसद में कश्मीर से धारा 370 हटाने का प्रस्ताव पेश किया। संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म करने का प्रस्ताव संसद में पेश किए जाने पर कश्मीर को लेकर चल रही तमाम अटकलें ख़त्म हो गई। इस प्रस्ताव में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने का प्रावधान है। संसद में इस बिल को लेकर काफी बहसबाजी हुई। शाम को गृहमंत्री अमित शाह ने एक-एक कर सभी के सवालों के जवाब दिए और राज्यसभा में यह बिल पास हो गया।

कश्मीर से धारा 370 हटाने के बिल के पक्ष में 125 वोट पड़े जबकि विपक्ष में 61 वोट ही पड़े। संसद में यह बिल अब पूरी तरह से पास हो चुका है। अब इस प्रस्ताव को कानून बनने के लिए केवल एक ही सीढ़ी चढ़ना है। प्रस्ताव से कानून बनने की इस प्रक्रिया में अब केवल एक ही कदम रह गया है और वह है राष्ट्रपति की मंजूरी। मतलब अब इस बिल को राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा। इस प्रस्ताव पर राष्ट्रपति के हस्ताक्षर होते ही यह कानून बन जाएगा। इस प्रस्ताव को संसद में लाने से पहले ही कश्मीर घाटी में सुरक्षा बढ़ा दी गई थी। घाटी में पहले से ही सुरक्षाबलों को तैनात किया गया था वहीं आज सुबह 8 हजार अतिरिक्त सुरक्षाबल घाटी में तैनात किए गए थे।

गौरतलब है कि आतंकी हमलों को देखते हुए मोदी सरकार ने अमरनाथ यात्रा को समय से पहले ही ख़त्म करने का फैसला लिया था। सरकार ने पर्यटकों को अमरनाथ यात्रियों तत्काल ही घाटी छोड़कर वापस लौटने का निर्देश जारी किया था। इस आदेश के बाद से ही कश्मीर को लेकर अटकलें शुरू हो गई थीं कि प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह कश्मीर को लेकर कुछ नई रणनीति तैयार कर रहे हैं। कई लोगों का पहले से ही मानना था कि कश्मीर को लेकर जरूर कुछ बड़ा होने वाला है। धारा 370 हटाए जाने की मांग पहले से होती आ रही है जिसे आज मोदी सरकार ने मूर्त रूप दे दिया है।

अब ऐसी अटकलें लगाईं जा रहीं हैं कि इस बार 15 अगस्त पर प्रधानमंत्री मोदी लाल किले से नहीं बल्कि कश्मीर में तिरंगा फहराएंगे। वहीं जम्मू-कश्मीर की भारतीय जनता पार्टी इकाई ने तिरंगा फहराने का कार्यक्रम भी तय कर लिया है। इस कार्यक्रम के तहत अब कश्मीर में हर पंचायत, जिला मुख्यालयों और सभी सरकारी इमारतों पर तिरंगा फहराया जाएगा। कश्मीर के लाल चौक पर भी 15 अगस्त को तिरंगा फहराया जाएगा और इसके साथ वंदे मातरम गीत भी गया जाएगा। इससे पहले लाल चौक पर तिरंगा फहराने को लेकर हिंसक वारदातें होती रही हैं।

Share.