लोकसभा में भी धारा 370 बिल हुआ पास

0

मोदी सरकार का कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने का फैसला राज्यसभा में कल पास हो हो गया था। इसके लिए कल राज्यसभा में वोटिंग कराई गई थी। वोटिंग के दौरान कश्मीर से धारा 370 हटाने के पक्ष में 125 वोट पड़े जबकि विपक्ष में 61 वोट ही पड़े। इसके बाद आज यानी मंगलवार 6 अगस्त को इस बिल को लोकसभा में पेश किया गया। लोकसभा में भी इस बिल को मंजूरी दे दी गई है। इस बिल के पक्ष में आज लोकसभा में वोटिंग कराई गई।

मोदी सरकार का 370 हटाने का फैसला SC में अटका

लोकसभा में धारा 370 बिल को लेकर हुई वोटिंग के दौरान जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन बिल के पक्ष में 351 वोट पड़े जबकि विपक्ष में केवल 72 वोट ही पड़े। इसके बाद लोकसभा में जम्मू-कश्मीर में आरक्षण बिल को लेकर भी वोटिंग करवाई गई। जम्मू-कश्मीर में आरक्षण के पक्ष में 366 वोट पड़े, जबकि इस बिल के पक्ष में केवल 66 वोट ही पड़े। इसके वोटिंग हुई कल राज्यसभा में पास बिल को लेकर। राज्यसभा से पास हुए बिल के पक्ष में 367 जबकि विपक्ष में 67 वोट पड़े। इन तीनों ही तरह की वोटिंग सरकार के फैसले को बहुमत प्राप्त हुआ और जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने को मंजूरी मिल गई।

Milind Deora : कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए सामने आए ये नाम

मोदी सरकार द्वारा लाए गए इस बिल का समर्थन कई अन्य दलों के नेताओं ने भी किया है। मोदी सरकार के इस फैसले को दोनों सदनों से मंजूरी मिल चुकी है। जम्मू-कश्मीर को 70 सालों के बाद धारा 370 से आजादी आखिर मिल ही गई। अब कश्मीर में केंद्र सरकार के फैसले मान्य होंगे। इसके अलावा अब वहां सुप्रीम कोर्ट के फैसले भी मान्य होंगे। 6 अगस्त 2019 की यह तारीख जम्मू-कश्मीर के इतिहास में दर्ज हो जाएगी। दोनों सदनों में बिल पास होते ही देश में एक बार फिर जश्न का माहौल बन गया है। 15 अगस्त से पहले कश्मीर घाटी को 370 से आजादी मिलने का जश्न पूरे देश में देखने को मिल रहा है। लोग पटाखे जलाकर, मिठाई बांटकर अपनी ख़ुशी जाहिर कर रहे है। लोगों ने मोदी सरकार के इस फैसले को ऐतिहासिक फैसला बताया।

अमित शाह के बड़े झूठ से फारुख अब्दुल्ला ने उठाया पर्दा

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री द्वारा कश्मीर पर लिए गए फैसले का समर्थन मध्यप्रदेश से कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी किया है। कांग्रेस पार्टी इस बिल के विरोध में है जबकि उनके कुछ सांसद पार्टी लाइन से हटकर पीएम मोदी के इस फैसले का दिल से स्वागत कर रहे हैं और उन्हें पूरा समर्थन दे रहे हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया जिसमे उन्होंने लिखा, “जम्मूकश्मीर और लद्दाख को लेकर उठाए गए कदम और भारत देश मे उनके पूर्ण रूप से एकीकरण का मैं समर्थन करता हूँ। संवैधानिक प्रक्रिया का पूर्ण रूप से पालन किया जाता तो बेहतर होता, साथ ही कोई प्रश्न भी खड़े नही होते। लेकिन ये फैसला राष्ट्र हित मे लिया गया है और मैं इसका समर्थन करता हूँ।”
https://twitter.com/JM_Scindia/status/1158735417702678528
Share.