SC में Hyderabad Encounter, मानवाधिकार आयोग की टीम कर रही जांच

0

तेलंगाना में पशु चिकित्सक प्रियंका रेड्डी के हत्यारों (Dr. Priyanka Reddy Case ) को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया। जिसके बाद जनता तो इसे लेकर खुशी जाता रही है, लेकिन समाज के कई बुद्धिजीवी इस मामले पर सवाल उठा रहे हैं और मामले की जांच की मांग कर रहे हैं। अब ये मामला सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court of India ) तक पहुँच गया है। वकील जीएस मणि और प्रदीप कुमार यादव ने इस मुठभेड़ के खिलाफ अदालत का दरवाजा खटखटाया है। वहीं राष्ट्रीय मानवाधिकार (National Human Rights Commission ) की टीम हैदराबाद (Hyderabad Encounter ) पहुँच चुकी है। इतना ही नहीं तेलंगाना कोर्ट ने आरोपियों के शव को सुरक्षित रखने का फैसला सुनाया है।

अब टॉयलेट की समस्या से परेशान हुए डोनाल्ड ट्रंप

एनकाउंटर के खिलाफ याचिका दायर करने वाले वकीलों  का कहना है कि अदालत के 2014 में दिए गए दिशा-निर्देशों का पालन नहीं किया गया। याचिकाकर्ताओं ने मुठभेड़ में शामिल रहे पुलिसकर्मियों के खिलाफ एफआईआर, जांच और कार्रवाई की मांग करने के लिए याचिका दायर की है। इसी के साथ वकील एमएल शर्मा ने एक और याचिका दायर की है, जिसमें जया बच्चन और दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के खिलाफ न्यायिक हत्यारों का समर्थन करने के लिए कार्रवाई करने की भी मांग की है।

Video : कोर्ट में वकीलों ने ही दे डाली बलात्कारी को सजा

हैदराबाद पहुंची राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग की तीन

राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग की टीम रंगारेड्डी जिले में शादनगर के पास मुठभेड़ में चारों आरोपियों के एनकाउंटर की जांच करने के लिए हैदराबाद पहुँच चुकी है। आयोग का दल पहले एनकाउंटर वाली जगह पर पहुंचेगा और इसके बाद महबूबनगर जाएगा। यहां चारों आरोपियों के शवों को रखा गया है। हैदराबाद में पुलिस एनकाउंटर में मारे गए गैंगरेप और हत्याकांड के आरोपियों के परिजन मीडिया के सामने आ रहे हैं और पुलिस एनकाउंटर पर सवाल उठा रहे हैं। गैंगरेप के आरोपी चिंताकुंटा चेन्नाकेशवुलु की पत्नी रेनुका के बाद अब आरोपी जोलू शिवा के पिता सामने आए हैं और एनकाउंटर पर सवाल उठाया है, जिसके बाद अब कोर्ट ने सभी आरोपियों के शवों को सुरक्षित रखने का आ देश सुनाया है।

उन्नाव की बेटी का हाल देख मां ने छह साल की बच्ची को किया आग के हवाले

      – Ranjita Pathare

Share.