लोकसभा चुनाव में भ्रष्टाचार की भेंट

0

साल 2016 में अचानक हुई नोटबंदी के बाद से पूरे देश में 1000 और 500 रुपए के नोट रातों-रात चलन से बाहर कर दिए गए। इनकी जगह नए 500 रुपए नोट और 2000 मूल्य के नए नोट चलन में लाए गए हैं। 2000 रुपए के नोट के चलन में आने के बाद अब ऐसी खबरें सामने आ रही हैं कि धीरे-धीरे अब यह नोट भी बाजार से गायब होते जा रहे हैं। जनवरी में यह खबर भी सामने आयी थी कि, इन नए नोटों की छपाई का कार्य भी पूरी तरह बंद कर दिया गया है।

लोन लेने से पहले एक बार जरुर पढ़ें यह खबर

Related image

अब चूंकि नए नोटों की छपाई नहीं की जा रही है और नोट भी बाजार से गायब हो रहे हैं तो ऐसे में विश्लेषकों का मानना है कि, आगामी लोकसभा चुनाव (Lok Sabha elections 2019) के कारण इन नोटों की जमाखोरी हो सकती है। एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि, 2,000 रुपए के करेंसी नोटों का सर्कुलेशन नाटकीय रूप से गिरा है। उनका कहना है कि इन नोटों की आपूर्ति में भी कमी आई है। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जो नोट पहले से बाजार में मौजूद है उनका भी आदान-प्रदान नहीं हो रहा। इस संबंध में बैंक अधिकारी का कहना है कि, ऐसा अक्सर ही चुनावों के दौरान होता है। और हम भी नागरिकों द्वारा नकदी जमा कर के रखने की बात से कतई इंकार नहीं कर सकते। हालांकि इन सबके बाद भी नकदी कोई भी समस्या नहीं है।

मुठभेड़ में BSF के 4 जवान शहीद

Related image

वहीं इस संबंध में आरबीआई (RBI) के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि, वैसे नकदी की किसी भी तरह की कोई कमी नहीं है। उनका कहना कि फिलहाल हमारा ध्यान कम मूल्यवर्ग के नोटों की आपूर्ति पर टिका हुआ है। हम इन सभी नोटों की मांग को ध्यान में रखते हुए कम मूल्यवर्ग के नोटों की आपूर्ति कर रहे हैं। जिसमे 200 रुपए के नोट भी शामिल हैं। अधिकारी ने कहा कि फिलहाल बैंक की निगरानी में  एटीएम रिकैलिब्रेशन अभ्यास किया जा रहा है।

Image result for 2000 Rs Note In ATM

गौरतलब है कि फ़रवरी माह में भारतीय स्टेट बैंक (SBI) द्वारा एक रिपोर्ट पेश की गई थी। इस रिपोर्ट में बताया गया था कि अभी भी 2000 रूपए के नोट मांग में थे। इस रिपोर्ट में कहा गया था कि उच्च मूल्यवर्ग नोट 2000 और 500 रुपए अर्थव्यवस्था में पर्याप्त रूप से परिचालित नहीं हो रहे हैं। वहीं दो निजी क्षेत्र के शीर्ष बैंकों ने भी कहा था कि  उच्च मूल्यवर्ग के बैंकनोटों का अनुपात और अधिक गिर गया है। अधिकारियों का कहना है कि इन बड़े नोटों में काला धन भी शामिल है। यह बात सभी को पता है। हालांकि विभाग अपना काम पूरी तरह से कर रहा है। इसके अलावा एटीएम उद्योग परिसंघ (CATMi) के अधिकारी का कहना है कि, ATM में भी बड़े नोटों की आपूर्ति घट गई है। उन्होंने बताया कि एटीएम मशीनों में नोटों के लिए चार कैसेट इस्तेमाल किए जाते हैं। इनमे 2000 रुपए और 100 रुपए के नोट के लिए एक-एक कैसेट होता है, जबकि 500 रुपए के नोट के लिए दो कैसेट का इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे में बड़े नोट यानी 2000 रुपए मूल्यवर्ग के नोटों की आपूर्ति न होने की वजह से एटीएम मशीन के कैसेट भी खाली छोड़ने पड़ रहे हैं।

यूएई के राष्ट्रपति सर्वोच्च नागरिक सम्मान देंगे

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.