Bhiwani Blind Murder Case : 6 महीने बाद बरामद हुए कटे हुए सिर

0

पिछले साल 28 दिसंबर को रोहतक रोड पर खरक नाम के गांव की एक अजीब और रौंगटें खड़े करने वाली घटना सामने आई थी। गांव के खेत में एक प्लास्टिक ड्रम मिला ,जिसमें इंसानी शरीर के कटे हुए टुकड़े थे (Bhiwani Blind Murder Case )। इस खौफनाक मंजर को देखने वाला हर शख्स सदमे में था।

चमकी बुखार के बाद जापानी इंसेफेलाइटिस का खौफ, 20 से ज्यादा की मौत

इन टुकड़ों को देखकर यह पता लगाना मुश्किल था कि शव किसी पुरुष का है या महिला का। पुलिस के लिए इस मामले  की गुत्थी सुलझाना बेहद मुश्किल था क्योंकि अपराधी ने अपना अपराध छुपाने के लिए शवों के सिर काट दिए थे (Bhiwani Blind Murder Case )। पुलिस की कड़ी मशक्कत के बाद आख़िरकार आरोपी का पता चल ही गया। इस निर्मम हत्याकांड को अंजाम देने वाले व्यक्ति  का नाम राजेश कबाड़ी है।  राजेश ने अपनी ही पत्नी और दो बच्चियों को बेरहमी से  मौत के घाट उतार दिया। मृतक की पत्नी की उम्र 30 – 35 साल और बड़ी  बच्ची 10 – 12 साल और छोटी बच्ची की उम्र 2 – 3 साल बताई गयी है।

इस अपराध (Bhiwani Blind Murder Case ) में आरोपी के साथ उसके दो साथी पूनम फौजी और मखन सिंह भी शामिल थे ( Blind murder case )। रिपोर्ट से मिली जानकारी के अनुसार मृतक महिला असम की रहने वाली है और राजेश ने उसे पत्नी का दर्जा देते हुए अपने साथ रख लिया। महिला की पहले से ही एक बेटी थी और बाद में उसे राजेश से भी एक बेटी हुई। राजेश ने बाद में  महिला को अपने साथ  रखने से मना कर दिया। विवाद के बढ़ने पर महिला ने राजेश से खर्च के लिए डेढ़ से दो लाख रुपये मांगे।

भारतीयों ने ढाई लाख से ज्यादा अमेरिकी नागरिकों को चूना लगाया

इस बात पर राजेश ने तेज धारदार हथियार से  तीनों की हत्या कर दी। पुलिस ने ड्रम के पास मिले एक थैले के आधार पर तहकीकात करना शुरू किया था और आख़िरकार आरोपी पकड़ा गया (Bhiwani Blind Murder Case )। एसपी गंगाराम ने बताया कि पूनम फौजी को 26 जनवरी और मखन सिंह को 27 जनवरी को गिरफ्तार किया था  . दोनों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस को मुख्य आरोपी राजेश व तीनों शवों के सिर मिलने की उम्मीद थी, लेकिन राजेश का काफी समय तक कोई सुराग नहीं लगा.

पीएम मोदी ने किया आकाश विजयवर्गीय को बाहर!

जिसके चलते पुलिस ने उस पर दो लाख रुपये का इनाम रखा ( Blind murder case )।  इस रोंगटे खड़े कर देनी वाली हत्या के आरोपी को तलाशना पुलिस के लिए बेहद मुश्किल था।

Share.