परमाणु युद्ध में 10 करोड़ लोग मारे ….

0

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर(jammu kashmir) से धारा 370 हटने के बाद पाकिस्तान(pakistan)बुरी तरह से बौखलाया है हुआ है और आये दिन वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान (imran khan)द्वारा परमाणु युद्ध(parmanu war) की गीदड़ भभकी दी जाती है। इस मसले पर पाकिस्तान ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई देशों से गुहार लगाई लेकिन किसी भी देश का समर्थन हासिल नहीं कर पाया। ऐसी स्थिति में परमाणु धमकी के अलावा उनकी पास कुछ है भी नहीं क्योंकि जमीनी स्तर पर युद्ध करने की हालत में इस समय पाकिस्तान बिलकुल भी नहीं है। क्योंकि पाकिस्तान भारी आर्थिक मंदी से गुजर रहा है। यदि पाकिस्तान ने परमाणु युद्ध की बेवकूफी की तो भारत ने भी साफ़ कह दिया है की ईट का जवाब पत्थर से दिया जाएगा। एक रिपोर्ट के अनुसार यदि परमाणु युद्ध हुआ तो लगभग 10 करोड़ लोगों मारे जायेगें।

साइंस एडवांस की रिपोर्ट के अनुसार में दावा किया गया है कि इससे सूर्य के प्रकाश में 20 से 35 फीसदी तक की गिरावट आ सकती है। जिससे धरती का तापमान दो से पांच डिग्री सेल्सियस तक कम हो सकता है। इससे धरती पर हिमयुग आ सकता है। इन परमाणु विस्फोटों के बाद आग और धुआं से लगभग 16 से 36 मिलियन टन कालिख अवशेष के रूप में बचेगी जो पूरे वातावरण को दूषित करेगी। रटगर्स यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एलन रोबॉक और अन्य वैज्ञानिकों के मुताबिक युद्ध के दौरान जो नुकसान होगा, उसके बारे में तो सभी जानते हैं; लेकिन युद्ध के बाद भी लाखों लोग मारे जाते रहेंगे.

भारतीय विशेषज्ञों ने इस तरह के संघर्ष की संभावना से पूरी तरह से इनकार किया है। वैज्ञानिकों ने अनुमान लगया है कि अगर भारत और पाकिस्तान के मध्य परमाणु युद्ध होता है तो जिस तरह के परिणाम होंगे, उससे उबरने में दुनिया को 10 साल से ज्यादा का समय लगेगा. और करीब 10 करोड़ लोगों के मारे जा सकते है।

-Mradul tripathi

Share.