RBI ने ‘YES Bank‘ पर कसा शिकंजा, जानिए आगे क्या होगा

0

आम लोगों को मारने के लिए सिर्फ कोरोना वायरस (Coronavirus) ही काम नहीं कर रहा है, बल्कि (RBI Temporary Prohibition) कुछ और कारक भी हैं जो आम लोगों की जान लेेने में अपनी भूमिका निभाएंगे। इसमें भारत के एक और बैंक का नाम भी अब जुड़ गया है। PNB, PMC और देश के अन्य बैंकों की तरह अब ‘यस बैंक‘ (Yes Bank) ने भी अपने खाता धारकों को बड़ा झटका दिया है। रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) ने बैंक के ग्राहकों के लिए 50 हजार रुपये निकासी की सीमा तय की है। RBI का ये आदेश अगले एक महीने के लिए है। यानि यस बैंक के ग्राहक 1 महीने तक सिर्फ 50 हजार रुपये ही अपने खाते से निकाल सकेंगे। आरबीआई ने पूर्व एसबीआई सीएफओ (SBI CFO) प्रशांत कुमार (Prashant Kumar) को यस बैंक का एडमिनिस्ट्रेटर नियुक्त किया गया है। आरबीआई ने ये कार्रवाई बैंक की आर्थिक हालत को देखते हुए की है।यस बैंक बीते कुछ समय से फंड जुटाने के लिए संघर्ष कर रहा है। इससे पहले गुरुवार को ये खबर आई थी कि सरकार ने देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक SBI को यस बैंक में हिस्सेदारी खरीदने के लिए कहा है। इसकी वजह से देश भर के यस बैंक ग्राहकों में डर कायम हो गया है और गुरुवार रात कई शहरों में यस बैंक के एटीएम (ATM) में ग्राहकों की कतारें देखी गईं।

आज से RBI ने लागू किया ये नियम ग्राहकों को मिलेगा सीधा फायदा

शेयर मार्केट पर टूटा कहर…

यस बैंक (RBI Temporary Prohibition) का संकट शेयर बाजार (Share Market) पर कहर बनकर टूटा और शुक्रवार को शेयर बाजार में भारी गिरावट आई। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का सेंसेक्स सुबह 857 अंकों की गिरावट के साथ 37,613.96 पर खुला। थोड़ी ही देर में सेंसेक्स 1400 अंक तक टूट गया। यस बैंक के शेयर 25 फीसदी तक टूटकर 27.65 रुपये पर चले गए। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) का निफ्टी 327 अंक टूटकर 10,942.65 पर खुला। सिर्फ 74 शेयरों में तेजी देखी गई, जबकि 802 शेयरों में गिरावट आई। गिरने वाले प्रमुख शेयरों में यस बैंक, कोल इंडिया (Coal India), टेक महिंद्रा (Tech Mahindra) , एसबीआई (SBI) , टाटा मोटर्स (Tata Motors), आरआईएल और आईसीआईसीआई (ICICI) बैंक शामिल रहे। एनएसई (NSE) ने यस बैंक के फ्यूचर और ऑप्शन सौदों पर रोक लगा दी है।

PMC Bank के ग्राहकों को बड़ी राहत! RBI ने बढ़ाई निकासी सीमा

बैंक के शेयर में आई तेजी

यस बैंक में एसबीआई (RBI Temporary Prohibition) की हिस्सेदारी की खबर से बैंक के शेयर में 25 फीसदी से अधिक की तेजी आ गई। कारोबार के अंत में यस बैंक का शेयर 36.85 (25.77) रुपये के भाव पर बंद हुआ। इससे एक दिन पहले 29.30 रुपये के भाव पर बंद हुआ था।

एसबीआई खरीदेगा या नहीं?

हालांकि, भारतीय स्टेट बैंक के बोर्ड ने संकटग्रस्त यस बैंक (RBI Temporary Prohibition) में निवेश के लिए सैद्धांतिक रूप से मंजूरी दे दी है। यानी अगर सब कुछ ठीक रहा तो आर्थिक संकट में फंसे यस बैंक में देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक SBI की हिस्सेदारी होगी। गुरुवार को ऐसी खबर आने के बाद यस बैंक के शेयर करीब 26 फीसदी की उछाल के साथ 37 रुपये पर पहुंच गए थे।

क्यों बनी ये स्थिती?

करीब 15 साल पहले शुरू हुए यस बैंक (RBI Temporary Prohibition) की आर्थिक हालत ठीक नहीं है। बैंक पर कर्ज बढ़ता जा रहा है तो वहीं शेयर भी टूट रहा है। यस बैंक की बदहाली इतनी बढ़ गई है कि सिर्फ 15 महीने के भीतर बैंक के निवेशकों को 90 फीसदी से अधिक का नुकसान हो गया है। अगस्त 2018 में यस बैंक का जो शेयर 400 रुपये से अधिक के भाव पर बिक रहा था वो आज लुढ़क कर 30 रुपये से भी नीचे आ गया है। वहीं सितंबर 2018 में यस बैंक का मार्केट कैप करीब 80 हजार करोड़ रुपये था, जो अब 9 हजार करोड़ के स्तर पर आ गया है। इस हिसाब से बैंक के मार्केट कैप में 70 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की कमी आई है।

क्यों यस बैंक की हुई ये हालत?

बीते कुछ सालों में यस बैंक (Yes Bank) को एक के बाद एक कई झटके लगे। साल 2018 में आरबीआई (RBI Temporary Prohibition) को लगा कि यस बैंक अपने डूबे हुए कर्ज (NPA) और बैलेंसशीट में कुछ गड़बड़ी कर रहा है। इसके बाद RBI ने यस बैंक के चेयरमैन राणा कपूर को पद से जबरन हटा दिया। बैंक के इतिहास में पहली बार था जब किसी चेयरमैन को इस तरह से पद से हटाया गया। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यानी आरबीआई (RBI) के इस झटके के बाद यस बैंक की हालत लगातार खराब भी होती गई और आज नौबत यहां तक आ गई।

ग्राहक घबराएं या नहीं?

ग्राहकों को घबराने की जरूरत इसलिए भी नहीं है कि सरकार किसी बैंक को डूबने नहीं देती है। पहले के उदाहरण देखें तो सरकार ने सहकारी और सरकारी बैंकों को तो डूबने से बचाया ही है, निजी क्षेत्र के बैंक को भी बचाने की कोशिश की है। रिजर्व बैंक ने भी कहा है कि ग्राहकों को घबराने की जरूरत नहीं है और अगले कुछ दिनों में बैंक के रीस्ट्रक्चरिंग प्लान पर काम होगा।

PMC के बाद RBI ने लिया इस बैंक पर बड़ा एक्शन

Rahul Tiwari / Prabhat Jain

Share.