अमर सिंह ने अमिताभ बच्चन से मांगी माफी, कहा- जिंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रहा हूं

0

राज्यसभा सांसद अमर सिंह (Rajya Sabha MP Amar Singh) ने बच्चन परिवार और अमिताभ बच्चन (Amar Singh Aplogizes To Bachchan) से माफी मांगी है। उनका कहना है कि जिंदगी के इस मोड़ पर जब मैं जिंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रहा हूं तब मुझे अपने बयान को लेकर पछतावा है। वीडियो जारी करते हुए सिंह ने कहा कि इतनी तल्खी के बावजूद यदि अमिताभ बच्चन उन्हें जन्मदिवस पर, उनके पिता की पुण्यतिथि पर मैसेज करते हैं मुझे अपने बयान पर खेद प्रकट कर देना चाहिए।

Amitabh Bachchan Best Dialogues : अमिताभ के TOP 20 डायलॉग्स जो आज भी हैं लोगों की जुबां पर

https://twitter.com/AmarSinghTweets/status/1229650838798209024?s=20

अमर सिंह ने ट्वीट (Amar Singh tweet)  कर कहा, ‘आज मेरे पिता की पुण्यतिथि है और इसे लेकर मुझे अमिताभ बच्चन (Amar Singh Aplogizes To Bachchan) जी से संदेश मिला। जीवन के इस पड़ाव पर जब मैं जीवन और मृत्यु की लड़ाई लड़ रहा हूं मुझे अमित जी और उनके परिवार के खिलाफ अपनी प्रतिक्रिया के लिए खेद है। ईश्वर उन सभी को आशीर्वाद दे।’

आपको बता दें कि अमर सिंह (Amar Singh)  इन दिनों सिंगापुर में भर्ती हैं जहां उनका इलाज चल रहा है। अस्पताल के बेड से उन्होंने एक वीडियो (video viral) जारी किया है। जिसमें उन्होंने कहा, ‘आज के दिन मेरे पिताजी का स्वर्गवास हुआ था। इस तारीख पर पिछले एक दशक से श्री अमिताभ बच्चन (Amar Singh Aplogizes To Bachchan Family) जी मेरे पिता जी की श्रद्धा में संदेश भेजते हैं। जब दो व्यक्तियों में बहुत अटूट स्नेह होता है और उसमें कम या अधिक अपेक्षा या उपेक्षाए होती हैं उन संबंधों में बहुत उबाल आता है। बड़ी उग्र प्रतिक्रिया आती है। संबंध जितना अधिक निकट होता है उसके टूट की चुभन भी उतनी तेज होती है।’

Amitabh Bachchan को जानलेवा बीमारी 75% लिवर खराब

https://www.facebook.com/AmarSinghViews/videos/359559048260848/

पूर्व सपा नेता (Amar Singh Aplogizes To Bachchan Family) ने कहा, ‘सिंह ने कहा कि पिछले 10 वर्षों से मैं बच्चन परिवार से न केवल अलग रहा बल्कि मैंने ये भी प्रयत्न किया कि उनके दिल में मेरे लिए नफरत हो। मगर आज फिर अमिताभ बच्चनजी ने मेरे पिताजी का सुमिरन किया। तो मुझे ऐसा लगा कि, इसी सिंगापुर में गुर्दे की बीमारी के लिए मैं और अमित जी दो महीने तक साथ रहे और उसके बाद हमारा और उनका साथ छूट सा गया। 10 वर्ष बीत जाने के बाद भी उनकी निरंतरता में कोई बाधा नहीं आई। वे लगातार अनेक अवसरों पर अपने कर्तव्य का निर्वहन करते रहे।’

बच्चन परिवार से माफी मांगते (Amar Singh Aplogizes To Bachchan Family) हुए उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि मैंने अनावश्यक रूप से ज्यादा उग्रता दिखाई। मैं जिंदगी और मौत की चुनौती से गुजर रहा हूं। मुझे लगता है कि सार्वजनिक रूप से, वे उम्र में मुझसे बड़े हैं उनके प्रति नरमी रखनी चाहिए थी। जो कटु वचन मैंने बोले हैं उनके लिए खेद भी प्रकट कर देना चाहिए। मेरे मन में कटुता और नफरत से ज्यादा उनके व्यवहार के प्रति निराशा रही लेकिन उनके मन में न तो निराशा है और न ही कटुता।’

आपको बता दें कि कभी अमिताभ बच्चन (Amar Singh Aplogizes To Bachchan Family) के करीब दोस्त रहे अमर सिंह पिछले कुछ वर्षों से उनके कटु आलोचक बन गए थे. अमर सिंह ने साल 2018 में एक खास बातचीत में कहा था, ‘अमिताभ बच्चन ने एक पार्टी में खुलासा करते हुए एक बड़े आदमी के बारे में कहा था कि वो उन्हें रुपये देना चाहते थे, लेकिन उन्होंने नहीं लिए. जबकि ये झूठ है. अमिताभ (Amitabh Bachchan) उस शख्स से 250 करोड़ रुपये मांग रहे थे, जबकि वो इन्हें 25 करोड़ रुपये ही देना चाहते थे. अगर अमिताभ में हिम्मत है तो उस शख्स का नाम बताएं, जिसके पैसे लेने से इनकार किया था. नहीं तो मैं उस शख्स की चिठ्ठी दिखाता हूं, जिसमें उन्होंने 25 करोड़ रुपये देने की बात कही थी. मेरे पास बैंक के लेन-देन से जुड़े वो सारे सुबूत हैं जिसमें अमिताभ (Amitabh Bachchan) ने करोड़ों रुपये लिए हैं. 100 करोड़ रुपये तो इन्होंने आज तक नहीं लौटाए हैं. मेरे पास मौजूद सबूत सार्वजनिक रूप से अमिताभ को एक्सपोज कर देंगे.’

वहीं राज्यसभा सांसद जया बच्चन (Rajya Sabha MP Jaya Bachchan) पर निशाना साधते हुए अमर सिंह ने कहा था- ‘जया बच्चन अपने पति को क्यों नहीं समझातीं कि ‘जुम्मा चुम्मा’ न करें. आपने अमिताभ बच्चन को क्यों नहीं समझाया कि बारिश में भीगती नायिका के साथ ऐसे दृश्य देना सही नहीं था. आपने अपनी बहू ऐश्वर्या को क्यों नहीं समझाया कि ‘ऐ दिल है मुश्किल’ में जो किसिंग सीन ऐश्वर्या ने दिए हैं, वो नहीं देने चाहिए थे. आप क्यों नहीं समझा पाईं अपने घर के सदस्यों को कि पर्दे पर ऐसे सीन नहीं देने चाहिए थे.’

राखी सावंत की तरह हदें पार की अमिताभ ने

-मृदुल त्रिपाठी

Share.