website counter widget

गांधी जी की हत्या पर नेताजी की प्रपौत्री ने दिया विवादित बयान

0

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) को महान देशभक्त कहा था जिसके बाद से देश भर में उनके इस बयान पर तीखी प्रतिक्रिया देखने को मिली थी। इसके बाद ग्वालियर में नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) की पूजा के बाद जमकर बवाल मच गया। नाथूराम गोडसे को फांसी दिए जाने वाले दिन ग्वालियर में हिन्दू महासभा (Hindu Mahasabha) ने इसे ‘बलिदान दिवस’ के तौर मनाया और गोडसे की पूजा की। इसके बाद देशभर में जमकर बवाल मचा। यह विवाद अभी थमा भी नहीं था कि हिंदू महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष और नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) की प्रपौत्री राजश्री चौधरी (Rajshree Choudhary) ने एक और विवादित बयान देकर इस आग में घी डाल दिया है।

गंगा यात्रा के दौरान उमा भारती अस्पताल में भर्ती, आखिर क्यों?

दरअसल नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) की प्रपौत्री और हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) की राष्ट्रीय अध्यक्ष राजश्री चौधरी (Rajshree Choudhary) ने अपने बयान में महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की हत्या के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू (Jawaharlal Nehru) की सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। राजश्री के इस विवादित बयान से एक और नया विवाद उत्पन्न हो गया है। नेताजी की प्रपौत्री राजश्री मंगलवार को ग्वालियर दौरे पर पहुंचीं। यहां पहुंचकर सर्वप्रथम उन्होंने झांसी की रानी वीरांगना लक्ष्मीबाई (Rani Laxmi Bai) को श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद वे दोपहर में हिंदू महासभा कार्यालय पहुंची। कार्यालय में उन्होंने नाथूराम गोडसे की पूजा और आरती की। इसके बाद उन्होंने कार्यालय में उपस्थित कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।

सस्ते कॉल रेट्स के दिन ख़त्म,1 दिसंबर से महंगे होंगे सभी प्लान

अपने संबोधन में राजश्री चौधरी (Rajshree Choudhary) ने कहा कि देश के विभाजन के लिए महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) जिम्मेदार हैं। वहीं उन्होने कहा कि साल 1948 में जब महात्मा गांधी को  नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) ने गोली मारी तो गांधी जी पूरे 40 मिनट तक तड़पते रहे लेकिन किसी भी कांग्रेसी ने उन्हें अस्पताल नहीं भिजवाया। इतना ही नहीं राजश्री ने आरोप लगते हुए कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू (Jawaharlal Nehru) की सरकार ने उनका पोस्टमार्टम तक नहीं करवाया। उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस उनका पोस्टमार्टम करवाती तो इससे सही तरीके से जांच हो सकती थी। इस हिसाब से महात्मा गांधी की मौत का असली जिम्मेदार अगर कोई है तो वही है उस वक़्त की नेहरू सरकार और कांग्रेस।

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने शिवसेना पर लगाया बड़ा इल्जाम

Prabhat Jain

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.