महाराष्ट्र की नई सरकार से राहुल गांधी को एतराज!

0

कभी कांग्रेस के नेताओं पर तीखे और व्यंग्यात्मक कटाक्ष करने वाले अब सत्ता की लालच में एक साथ सरकार बनाने की तैयारी कर रहे हैं। महाराष्ट्र की राजनीति में पिछले काफी समय से मचा घमासान अब खत्म हो चुका है और कांग्रेस-एनसीपी (Congress-NCP Shiv Sena alliance ) के साथ मिलकर शिवसेना सरकार बनाने वाली है, लेकिन इस नई सरकार से कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष (Former Congress President Rahul Gandhi ) खुश नहीं है। कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र चुनाव से पहले शिवसेना के नेताओं ने राहुल  गांधी को लेकर कई ऐसे बयान दिये, जिसके कारण वे उन्हें अब माफ नहीं कर पा रहे हैं! राजनीति के कुछ जानकारों का कहना है कि महाराष्ट्र में बनने वाली शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस की सरकार (Shiv Sena-NCP Congress government in Maharashtra ) पर राहुल  गांधी एतराज कर सकते हैं !

सावधान ! स्लीप मोड पर ना छोड़े लैपटॉप, बन जाएगा बम

शपथ ग्रहण में शामिल नहीं होंगे राहुल गांधी

सूत्रों के अनुसार, कहा जा रहा है कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Maharashtra CM Uddhav Thackeray ) 28 नवंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं। इस कार्यक्रम के लिए राजनीति के कई बड़े दिग्गजों को न्योता दिया जा रहा है। सोनिया गांधी के भी पहुँचने की संभावना जताई जा रही है, लेकिन शपथ ग्रहण समारोह में राहुल गांधी शामिल नहीं होने वाले हैं। इतना ही  नहीं  पिछले काफी समय से जब शिवसेना के साथ  गठबंधन की बात चल रही थी तब भी राहुल गांधी ने दूरिया बनाकर रखी थी। शिवसेना की ओर से कहा जा रहा था कि तीनों दलों के बड़े नेताओं को शपथ ग्रहण में बुलाया जाएगा,  लेकिन राहुल गांधी के नहीं पहुँचने पर महागठबंधन को झटका लग सकता है।

706 करोड़ दान करके भी ट्रोल हुए अमेज़न के संस्थापक

कहा जा रहा है कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia gandhi) को शपथ ग्रहण (Maharashtra CM Uddhav Thackeray ) में न्योता देने के लिए शरद पवार (Sharad Pawar) खुद जाने वाले हैं। शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे 28 नवंबर को शाम 6:30 बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं। वे अपने भाई राज ठाकरे को भी न्योता देने जाने वाले हैं । मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश के बाद महाराष्ट्र में सियासी खेल एकदम से पलट गया था। कोर्ट के फ्लोर टेस्ट वाले फैसले के बाद सीएम देवेंद्र फड़णवीस ने इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस का सरकार बनाने का रास्ता साफ हो गया।

कैलाश का हाथ थामकर बीजेपी में आएंगे कांग्रेसी सिंधिया!

   – Ranjita  Pathare 

Share.