VIDEO : अध्यक्ष पद छोड़ कोर्ट पहुंचे राहुल गांधी

0

राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) कांग्रेस अध्यक्ष (Congress President) पद से इस्तीफा दे चुके हैं, इस बात का उन्होंने ही खुलासा किया। बुधवार को उन्होंने अपने ऑफिसियल ट्विटर अकाउंट से भी अपना बायो बदलकर कांग्रेस अध्यक्ष हटाकर सांसद लिख लिया। अध्यक्ष पद त्याग देने के बाद भी उनकी मुश्किलें कम नहीं हुई है। जहां पार्टी के कई नेता और कार्यकर्ता उन्हें मानाने के लिए कई जतन कर रहे हैं वहीँ आज वे मुंबई में कोर्ट के सामने पेश हुए हैं। इतना ही नहीं इस महीने में राहुल गांधी कुल पांच मामलों में कोर्ट के सामने पेश होने वाले हैं।

सीएम अशोक गहलोत ने बताया, हार के लिए केवल राहुल गांधी जिम्मेदार…

जानकारी के अनुसार, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) की मानहानि से जुड़े एक मामले में राहुल गाँधी आज मुंबई कोर्ट में पेश होने के लिए पहुँच गए। पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड (Journalist Gauri lankesh Murder Case) के बाद राहुल गांधी की भाजपा (BJP )-आरएसएस (RSS ) की विचारधारा से जोड़ने वाली टिप्पणी के बाद मानहानि का मामला दायर किया गया था। यह मामला एक संघ कार्यकर्ता ध्रुतिमान जोशी ने उठाया था। राहुल गांधी की अगुआई में पार्टी नेता कृपाशंकर सिंह, बाबा सिद्दीकी, मिलिंद देवड़ा, संजय निरूपम अदालत के अंदर मौजूद हैं। मुंबई एयरपोर्ट के बाहर कांग्रेस के कई कार्यकर्ता जमे हुए हैं और वे ‘राहुल तुम संघर्ष करो, हम तुम्हारे साथ हैं’ के नारे लगा रहे हैं। इसी के साथ अभी भी कई लोग राहुल गांधी से मिलकर इस्तीफा वापस लेने के लिए निवेदन कर रहे हैं।

सोशल मीडिया पर इतने महंगे हैंडबैग को लेकर आलोचना

क्या है मामला ( Gauri lankesh Murder Case)

सितंबर, 2017 में बेंगलुरु में पत्रकार गौरी लंकेश की उन्हीं के घर के बाहर कथित तौर पर दक्षिणपंथी विचारधारा वाले समूह के सदस्यों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद वकील जोशी ने 2017 में ही राहुल गांधी, तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, माकपा और उसके महासचिव सीताराम येचुरी के खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने आरोप लगाया था कि पत्रकार लंकेश की हत्या के 24 घंटे के अंदर राहुल गांधी ने मीडिया से इस घंटना के पीछे भाजपा और आरएसएस की विचारधारा से जुड़े लोगों का हाथ होने का आरोप लगाया था। शिकायत में येचुरी पर भी इसी तरह का बयान देने का आरोप लगाया गया था। अदालत ने सोनिया गांधी और माकपा को इस मामले में पक्ष मानने से इनकार कर दिया था। अदालत ने कहा था कि किसी की व्यक्तिगत टिप्पणी के लिए पार्टी जिम्मेदार नहीं हो सकती।

फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती कश्मीर के दुश्मन!

Share.