website counter widget

विवादित साध्वी प्रज्ञा भारत के रक्षा मंत्रालय में

0

यदि चोरों को ही तिजोरी की चाबी थमा दी जाये तो सोचिए क्या होगा ? वैसा ही कुछ शायद रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence ) में भी हो रहा है। अक्सर अपने विवादित बयानों (Sadhvi Pragya Contraversial Statement ) के कारण चर्चा में रहने वाली भोपाल से भारतीय जनता पार्टी की सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर (Bharatiya Janata Party MP Sadhvi Pragya Singh Thakur ) एक बार भी चर्चा में आ गई है, लेकिन इस बार वे अपने विवादित बयान के कारण चर्चा में नहीं बनी हुई  है। मालेगांव ब्लास्ट (Sadhvi Pragya accused of Malegaon blast ) के आरोप झेल रही साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को रक्षा मंत्रालय (Pragya Singh Thakur In Defence Committee) में शामिल कर बड़ी ज़िम्मेदारी दी गई है। मोदी सरकार के इस फैसले के सामने आते  ही विपक्ष ने मोदी सरकार की क्लास लेनी शुरू कर दी है।

भाजपा नेता का सेक्स वीडियो, अमित शाह ने स्वीकार….

साध्वी को बड़ा पद

साध्वी प्रज्ञा को रक्षा कमेटी में जैसे ही शामिल (Pragya Singh Thakur In Defence Committee) किया गया वैसे ही विरोधी दलों को  मोदी सरकार को घेरने का मौका मिल गया। रक्षा मंत्रालय की कमेटी की अगुवाई रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कर रहे हैं। इस कमेटी में 21 लोगों को जगह दी गई है। इसमें में चेयरमैन राजनाथ सिंह के साथ ही फारुक अब्दुल्ला, ए. राजा, सुप्रिया सुले, मीनाक्षी लेखी, राकेश सिंह, शरद पवार, जेपी नड्डा को जगह दी गई है।

अमरीका ने क्यों सैकड़ों भारतीयों को निकाल दिया ?

लोकसभा चुनाव के दौरान हुआ था हंगामा

लोकसभा चुनाव के प्रचार के दौरान साध्वी प्रज्ञा (Pragya Singh Thakur) अपने विवादित बयान के कारण चर्चा में आई थी। उन्होने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया था इसके बाद उन्होने विपक्षी नेताओं पर भाजपा नेताओं के ऊपर ‘मारक शक्ति’ का इस्तेमाल किया था। उन्होने हेमंत करकरे को लेकर भी विवादित बयान दिया था, जिसके कारण भी  बीजेपी को विपक्ष के कटाक्ष सुनने पड़े थे। नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने वाले बयान पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रतिकृया दी थी कि वह कभी भी साध्वी प्रज्ञा को मन से माफ नहीं कर पाएंगे।   इसी के बाद बीजेपी की ओर से साध्वी प्रज्ञा को विवादित बयान पर कारण बताओ नोटिस दिया गया था और अनुशासनात्मक कमेटी को मामला सौंपा गया था, लेकिन समय गुजरने के साथ ही  बीजेपी सब भूल गई है और शायद साध्वी प्रज्ञा के सारे बयानों के कारण उन्हें माफ भी कर चुकी है तभी साध्वी को रक्षा मंत्रालय में इतनी बड़ी ज़िम्मेदारी सौंपी जा रही है।

सरकार के खिलाफ असदुद्दीन ओवैसी ने फिर उगला जहर

     – Ranjita Pathare 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.